Delhi News: सोनिया गांधी पर केन्द्रीय मंत्री बघेल का कटाक्ष, कहा- रोम वालों को भी पसंद आ रहे हैं राम

New Delhi: संसद भवन में आज राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने अपने संबोधन में राम मंदिर का जिक्र किया, सोनिया गांधी ने ने मेज थपथपा कर खुशी जाहिर की। इस पर BJP नेता ने सोनिया गांधी पर कटाक्ष किया।
Soniya Gandhi
Soniya Gandhi Raftaar.in

नई दिल्ली, हि.स.। परिवार कल्याण राज्य मंत्री प्रोफेसर एसपी सिंह बघेल ने कहा कि रोम-रोम में बसने वाले राम को रोम के लोग भी पसंद करते हैं। राम सर्वव्यापी हैं। राम हमारे साझे पुरखे हैं। उनका नाम आते ही सबको खुशी होती है। राजनीतिक कारणों से लोग जाहिर भले न करें।
असल में बुधवार को लोकसभा और राज्यसभा के संयुक्त सत्र को जब राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू संबोधित कर रही थीं तो उन्होंने राम मंदिर का भी जिक्र किया।

सांसदों ने जमकर तालियां बजाई और जय श्रीराम के लगाए नारे

इस दौरान सांसदों ने जमकर तालियां बजाई और जय श्रीराम के नारे लगाए। इस दौरान विपक्ष खामोश रहा लेकिन कांग्रेस की वरिष्ठ नेता व लोकसभा सांसद सोनिया गांधी ने मेज थपथपा कर खुशी जाहिर की। इस मुद्दे पर केन्द्रीय मंत्री बघेल ने सोनिया गांधी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि रोम वालों को भी राम पसंद आते हैं। राजनीतिक कारणों से लोग स्वीकार भले न करें लेकिन प्रभु राम का नाम आते ही अंतर्मन में खुशी होती है। बघेल ने कहा कि राम हमारे साझे पुरखे हैं। उनके नाम पर खुश होना स्वाभाविक है।

सोनिया गांधी ने मेज थपथपा कर राम मंदिर का किया स्वागत

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राजीव शुक्ला ने भी आज संसद भवन परिसर में मीडिया से बातचीत में कहा कि कांग्रेस को राम से परहेज नहीं है। हमारी नेता सोनिया गांधी ने आज संसद के अंदर जब राम मंदिर का जिक्र राष्ट्रपति ने किया तो उन्होंने मेज थपथपा कर स्वागत किया। हम अयोध्या में श्रीराम लला की प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में भी जाते लेकिन भारतीय जनता पार्टी ने इसे राजनीतिक कार्यक्रम बना दिया था। इसलिए हम वहां 22 जनवरी को नहीं गए थे।

इंडिया गठबंधन श्रीराम लला की प्राण प्रतिष्ठा में नहीं हुआ शामिल

इंडिया गठबंधन के सभी नेताओं को राम मंदिर परिसर की ओर से राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा का निमंत्रण भेजा गया था। लेकिन सभी दलों ने इस कार्यक्रम को BJP और RSS का बताकर इसका बहिष्कार किया। इस पर BJP ने भी इंडिया गठबंधन पर हमला किया था।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.