New Delhi: प्रधानमंत्री ने कहा केंद्रीय विद्यालयों ने देश के भविष्य को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई

New Delhi: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को केंद्रीय विद्यालय की हीरक जयंती के अवसर पर छात्रों, कर्मचारियों, सहायक कर्मचारियों और पूर्व छात्रों को शुभकामनाएं दी हैं।
Narendra Modi
Narendra Modiraftaar.in

नई दिल्ली, (हि.स.)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को केंद्रीय विद्यालय की हीरक जयंती के अवसर पर छात्रों, कर्मचारियों, सहायक कर्मचारियों और पूर्व छात्रों को शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने कहा कि केंद्रीय विद्यालयों ने देश के भविष्य को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

पीएम ने केन्द्रीय विद्यालय के छात्रों और कर्मचारियों को हीरक जयंती की बधाई दी

प्रधानमंत्री मोदी ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर लिखा कि केन्द्रीय विद्यालय परिवार के सभी छात्रों, कर्मचारियों, सहायक कर्मचारियों और पूर्व छात्रों को उनकी हीरक जयंती पर बधाई। यह इस प्रतिष्ठित शैक्षिक समुदाय की उल्लेखनीय उपलब्धियों का जश्न मनाने और प्रशंसा करने का अवसर है। पिछले कुछ वर्षों में, केंद्रीय विद्यालयों ने कई छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करके हमारे देश के भविष्य को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। शैक्षणिक उत्कृष्टता और छात्रों के समग्र विकास में उनका योगदान वास्तव में सराहनीय है।

किस तरह से केंद्रीय विधालय की शुरुआत हुई

दूसरे केंद्रीय वेतन आयोग की सिफ़ारिशों के आधार पर केंद्रीय विधालयों की योजना का अनुमोदन नवंबर 1962 में भारत सरकार द्वारा किया गया। शुरुआत में शैक्षिक वर्ष 1963-64 के दौरान सुरक्षा कर्मियों की आबादी वाले स्थानों पर चल रहे 20 रेजिमेंटल विद्यालयों को केंद्रीय विद्यालय के रूप में लिया गया। 15 दिसंबर, 1965 को सोसायटी पंजीकरण अधिनियम (1860 के XXI) के अंतर्गत केन्द्रीय विद्यालय संगठन का एक सोसायटी के रूप में पंजीकरण किया गया।

केंद्रीय विधालयों के पूर्व छात्रों को भी काफी गर्व महसूस हो रहा था

उल्लेखनीय है कि केंद्रीय विद्यालय संगठन हर साल 15 दिसंबर को अपना स्थापना दिवस मनाता है। केन्द्रीय विद्यालय संगठन की स्थापना वर्ष 1963 में केवल 20 रेजिमेंटल स्कूलों के साथ की गई थी। केंद्रीय विद्यालय की हीरक जयंती के उपलक्ष्य में केंद्रीय विधालय के अध्यापक, कर्मचारी और छात्रों में काफी ख़ुशी का माहौल था। प्रधानमंत्री ने भी केंद्रीय विधालयो की महत्वता को बताया। केंद्रीय विधालयों के पूर्व छात्रों को भी काफी गर्व महसूस हो रहा था कि उन्होंने ऐसे संस्थान से अपनी शिक्षा ली है। कई पूर्व छात्र इस क्षण को अपने सोशल मीडिया में साझा कर रहे थे।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.