Parakram Diwas: PM मोदी आज लाल किले पर पराक्रम दिवस के अवसर पर आयोजित 'भारत पर्व' कार्यक्रम में लेंगे हिस्सा

New Delhi: PM नरेन्द्र मोदी आज लाल किले पर पराक्रम दिवस के अवसर पर नौ दिवसीय कार्यक्रम का उद्घाटन करेंगे। इस अवसर पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस और आज़ाद हिंद फ़ौज की विरासत पर प्रकाश डाला जाएगा।
PM Narendra Modi
PM Narendra Modi Raftaar.in

नई दिल्ली, हि.स.। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज लाल किले पर पराक्रम दिवस के अवसर पर नौ दिवसीय कार्यक्रम का उद्घाटन करेंगे। प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने आज एक बयान में कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 23 जनवरी को शाम 6:30 बजे लाल किले पर पराक्रम दिवस समारोह में भाग लेंगे। प्रधानमंत्री की पहल पर 2021 से नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को पराक्रम दिवस के रूप में मनाया जाना शुरू किया गया।

नेताजी सुभाष चंद्र की उपलब्धियों पर डाली जाएगा प्रकाश

इस वर्ष लाल किले पर आयोजित उत्सव में विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से नेताजी सुभाष चंद्र बोस और आज़ाद हिंद फ़ौज की विरासत पर प्रकाश डाला जाएगा। इसी प्रकार अभिलेखागार की प्रदर्शनियों, दुर्लभ तस्वीरों और दस्तावेजों के प्रदर्शन से आगुंतकों को नए अनुभव मिलेंगे। ये जश्न 31 जनवरी तक जारी रहेंगे।

23 से 31 जनवरी तक यह कार्यक्रम होगा आयोजित

कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री 23 से 31 जनवरी तक आयोजित होने वाले भारत पर्व का भी शुभारंभ करेंगे। इसमें गणतंत्र दिवस की झांकी और सांस्कृतिक प्रदर्शनों के साथ देश की समृद्ध विविधता का प्रदर्शन किया जाएगा, जिसमें 26 मंत्रालयों और विभागों के प्रयास, नागरिक केंद्रित पहल, स्थानीय के लिए मुखरता, विविध पर्यटक आकर्षण आदि पर प्रकाश डाला जाएगा। यह लाल किले के सामने राम लीला मैदान और माधव दास पार्क में होगा।

'तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा'

पराक्रम दिवस पर कई तरह के कार्यक्रमों का आयोजन होता है। बच्चों को स्कूल-काॅलेज में इस दिन का महत्व बताया जाता है और स्वतंत्रता संग्राम आंदोलन की याद को ताजा किया जाता है। यह वही नेताजी हैं, जिन्होंने नारा दिया था, 'तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा'। इस नारे ने भारतीयों के दिलों में आजादी की मांग को लेकर जल रही आग को और अधिक तेज कर दिया था। बोस का संपूर्ण जीवन हर युवा और भारतीय के लिए आदर्श है।

नेताजी की मौत का राज अभी नहीं सुलझा

देश की आजादी के नायक रहे नेताजी सुभाष चंद्र बोस की आज जयंती है। उनकी मौत के बाद बाद भी कई सवाल लोगों के मन में हैं। नेताजी की मौत प्लेन क्रैश से हुई थी या कुछ और हुआ था। इससे जड़े राज आज तक नहीं पता चला।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.