लोकसभा में वंशवाद को परिभाषित करते हुए पीएम मोदी ने किया तंज, कांग्रेस को बताया एक परिवार तक सीमित

Budget Session 2024: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज सोमवार को लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा का उत्तर देते हुए कांग्रेस पार्टी पर तंज कसा। उन्होंने कांग्रेस को बताया एक परिवार तक सीमित।
PM Modi
PM ModiPhoto- @sansad_tv

नई दिल्ली, रफ्तार (हि.स.)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज सोमवार को लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा का उत्तर देते हुए कांग्रेस पार्टी पर तंज कसा। उन्होंने कहा कि पार्टी एक परिवार तक सीमित हो गई है और करोड़ों परिवारों की आकांक्षाओं और उपलब्धियों को नहीं देख पा रही है।

कांग्रेस पार्टी और भाजपा के बीच है बड़ा अंतर

प्रधानमंत्री ने सोमवार को परिवारवाद की परिभाषा प्रस्तुत करते हुए कांग्रेस पार्टी और भाजपा के बीच अंतर बताया। उन्होंने कहा कि किसी परिवार में एक से अधिक व्यक्ति अपने बल पर और जनता के सहयोग से राजनीतिक क्षेत्र में प्रगति करते हैं, उसे हम वंशवाद की राजनीति नहीं कहते हैं। हमारे लिए वंशवाद की राजनीति का मतलब है कि एक पार्टी एक परिवार द्वारा चलाई जाए, पार्टी एक परिवार के सदस्यों को प्राथमिकता दे और परिवार के सदस्य ही पार्टी के सभी महत्वपूर्ण निर्णय लें।

पीएम का कांग्रेस पर तंज, पार्टी को बताया एक परिवार तक सीमित

इस संदर्भ में प्रधानमंत्री ने भाजपा के दो बड़े नेताओं राजनाथ सिंह और अमित शाह का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि दोनों नेता भाजपा को नहीं चलाते हैं। उनका इशारा दोनों नेताओं के बेटों से था, जो वर्तमान में सार्वजनिक जीवन में हैं। उन्होंने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि पार्टी एक परिवार तक सीमित हो गई है। वह देश के करोड़ों परिवारों की आकांक्षाओं और उपलब्धियों को नहीं देख पा रही है।

कांग्रेस पर विपक्ष की भूमिका निभाने में विफल

प्रधानमंत्री ने कांग्रेस पर विपक्ष की भूमिका निभाने में विफल होने की बात कही। उन्होंने कहा कि विपक्ष की मौजूदा हालत के लिए कांग्रेस पार्टी जिम्मेदार है। कांग्रेस के पास अच्छा प्रतिद्वंद्वी बनने का मौका है। हालाँकि, वे पिछले दस वर्षों में अपनी ज़िम्मेदारी निभाने में विफल रहे। एक ही उत्पाद को बार-बार प्रस्तुत किया जा रहा है।

उन्होंने अपने कार्यकाल की तुलना कांग्रेस पार्टी से की और कहा कि अगर वे (कांग्रेस पार्टी) सत्ता में होते तो बहुत से प्राप्त लक्ष्यों को पाने में सालों लग जाते।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करेंwww.raftaar.in

Related Stories

No stories found.