Ghazipur Landfill Fire: गाज़ीपुर लैंडफिल साइट पर लगी भीषण आग हुई बेकाबू, ज़हरीली हवा में सांस लेना मुश्किल

New Delhi: पूर्वी दिल्ली के गाज़ीपुर लैंडफिल साइट में 21 अप्रैल की शाम को लगी भीषण आग पर अबतक काबू नहीं पाया गया है। दमकल की 10-12 गाड़ियां कड़ी मशक्कत से आग पर काबू पाने की कोशिश कर रही है।
Ghazipur Landfill Fire
Ghazipur Landfill FireRaftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। दिल्ली के गाज़ीपुर लैंडफिल साइट में 21 अप्रैल की शाम को लगी भीषण आग लगातार बढ़ती जा रही है । आग को बुझाने के प्रयास जारी हैं। दिल्ली फायर सर्विस एसओ नरेश कुमार के मुताबिक, आग लगने का कारण लैंडफिल में पैदा होने वाली गैस है। BJP के प्रदेश अध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा घटनास्थल पर पहुंचे हैं।

धुएं के कारण सांस लेने में तकलीफ

आसपास रहने वाले निवासियों ने आग के धुएं के कारण सांस लेने में तकलीफ की भी शिकायत की है। एक निवासी ने इस बात पर भी सवाल उठाया कि आग पर काबू क्यों नहीं पाया गया और यह भी शिकायत की कि हर कोई चुनाव पर ध्यान केंद्रित करता है लेकिन कोई भी प्रदूषण और स्वच्छता के दैनिक मुद्दों पर ध्यान नहीं देता है। स्थानीय निवासी नाजरा ने ANI से बात करते हुए कहा, "मैं यहां रहती हूं और धुएं से आंखों में परेशानी हो रही है। हमें सांस लेने में भी दिक्कत हो रही है। पूरी कॉलोनी परेशान है।"

आग पर काबू पाने की चल कही कोशिश

ANI को अधिकारियों ने बताया कि 21 अप्रैल की शाम पूर्वी दिल्ली में गाजीपुर लैंडफिल साइट पर भीषण आग लग गई। दिल्ली अग्निशमन सेवा (DFS) के एक अधिकारी ने कहा, "हमें शाम 5:22 बजे आग लगने की सूचना मिली। 9 दमकल गाड़ियां मौके पर पहुंची। आग बुझाने के प्रयास किए जा रहे हैं। स्थानीय पुलिस को सूचित कर दिया गया है।" दिल्ली नगर निगम (MCD) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि आग पर काबू पाने के लिए बड़ी संख्या में बचावकर्मियों को आग पर काबू करने के लिए लगाया गया है।

कूड़े पर बनी राजनीति

इस बीच BJP ने दिल्ली सरकार पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि उसने पिछले साल 31 दिसंबर तक गाजीपुर लैंडफिल साइट को खाली करने का वादा किया था लेकिन अपना वादा पूरा नहीं किया। एक बयान में दिल्ली BJP के प्रवक्ता प्रवीण शंकर कपूर ने कहा कि लैंडफिल साइट पर आग लगने के परिणामस्वरूप पूरे क्षेत्र में धुआं फैल गया है। जिससे निवासियों और व्यवसायों को असुविधा हो रही है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 2022 के MCD चुनाव से पहले पिछले साल 31 दिसंबर तक इस लैंडफिल साइट को खाली करने का वादा किया था। हालांकि, कचरा साफ करने के बजाय और अधिक कचरा डाल दिया गया।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.