Lok Sabha Election: इस बार इन दो वकीलों की दलीलों का फैसला अदालत नहीं जनता सुनाएगी, नई दिल्ली है इसका कोर्टरुम

New Delhi: नई दिल्ली लोकसभा सीट पर सस्पेंस बना हुआ है। इस बार दो केवल दो नेता ही नहीं दो वकील आमने-सामने चुनाव लड़ेंगे।
Somnath Bharti AAP
Bansuri Swaraj BJP 
Lok Sabha Election
Somnath Bharti AAP Bansuri Swaraj BJP Lok Sabha Election Raftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। देश की राजधानी नई दिल्ली में इस बार कड़ा मुकाबला देखने को मिलेगा। BJP ने स्वर्गीय सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी स्वराज को नई दिल्ली से टिकट मिला है। तो वहीं इंडिया गठबंधन में शामिल आम आदमी पार्टी ने सोमनाथ भारती को मैदान में उतारा है। संयोग से बांसुरी स्वराज और सोमनाथ भारती दोनों ही अधिवक्ता हैं। जनता की अदालत में दोनों अपनी दलीलें पेश कर रही है।

क्यों है नई दिल्ली इतनी खास?

नई दिल्ली की वर्तमान BJP सांसद मीनाक्षी लेखी को इस बार पार्टी ने टिकट नहीं दिया है। नई दिल्ली देश की राजधानी होने के अलावा देश के प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति, सांसद और बड़ी-बड़ी हस्तियों का आवास है। साथ ही आम लोगों की भी यहां कोई कमी नहीं है। नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से हर दिन हजारों की संख्या में लोग दिल्ली में एक नई आशा और उम्मीद लेकर आते हैं। नई दिल्ली लगभग 14 लाख मतदाताओं का घर है। आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी नई दिल्ली से विधायक हैं। ऐसे में बांसुरी स्वराज और सोमनाथ भारती ने लोगों के सामने अपनी दलीलें पेश करने में जुटे हुए हैं।

आखिर कौन हैं इस बार के उम्मीदवार?

BJP से बांसुरी स्वराज स्वर्गीय सुषमा स्वराज की बेटी हैं। सुषमा स्वराज BJP की दिग्गज नेता रहीं हैं। बांसुरी स्वराज का यह पहला बड़ा चुनाव है। उन्होंने जवाहरलाल नेहरु से ABVP के मेम्बर के नाते कॉलेज दिनों में राजनीति शुरु की थी। उसके बाद वह उन्होंने वकालत में कदम रखा। उन्होंने लोगों के दिलों में जगह बनाने के लिए अपनी पारी की शुरुआत कर दी है। वहीं दूसरी ओर, सोमनाथ भारती मालवीय नगर से लगातार 3 बार विधायक हैं। इसके अलावा सोमनाथ भारती दिल्ली सरकार में मंत्री के पद पर काम करने का भी उन्हें अनुभव है। अब देखना ये है कि दिल्ली की जनता किसे अपनाती है और किसे निकालती है इस बात का फैसला तो आने वाले चुनावों में होगा।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.