Farmer Protest: तीसरे दिन भी दिल्ली के बॉर्डर पर डटे किसान, जानें क्या हैं किसानों की मांग?

Farmer Protest: किसान आंदोलन को पुलिस ने अंबाला के शंभू बॉर्डर पर रोक लिया है। जिससे राजधानी दिल्ली में शांति बरकरार है, दिल्ली की सभी सीमाओं पर गाड़ियों की आवाजाही पर रोक हटा दिया।
Farmer Protest
Farmer Protest Raftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। राजधानी दिल्ली में किसान आंदोलन का असर देखने को मिल रहा है। मनोहर लाल खट्टर सरकार के आदेश पर किसानों को हरियाणा के अंबाला सिटी के पंजाब-हरियाणा बॉर्डर पर रोक लिया गया है। किसान नेता राकेश टिकैत ने इस बार आंदोलन से दूरी बनाई है। उन्होंने मीडिया से कहा कि 'उनका इस आंदोलन से कोई संबंध नहीं है, वह किसानों के साथ हैं मगर इस बार वह आंदोलन का हिस्सा नहीं बनेंगे।'

दिल्ली की सीमाओं पर मल्टी लेयर सुरक्षा

किसान आंदोलन के चलते दिल्ली में सड़कों पर लंबा जाम लगा था। लोगों की रोजमर्रा की जिंदगी पर असर पड़ रहा था। दिल्ली की सभी सीमाओं को दिल्ली पुलिस ने कंक्रीट और सीमेंट की दीवार बनाकर बंद कर दिया है। सभी सीमाओं पर लोहे के कांटे लगाए गए हैं, मल्टी लेयर सुरक्षा का इंतजाम किया गया है। दिल्ली में एक महीने के लिए धारा 144 लागू किया गया है। किसान आंदोनल किसी भी समय दिल्ली तक पहुंच सकता है, ऐसे में राजधानी दिल्ली में कड़ी सुरक्षा-व्यवस्था का इंतजाम किया गया है।

गाजीपुर बॉर्डर पर कैसा है हाल?

गाजीपुर बॉर्डर को बुधवार को आम जनों की आवाजाही के लिए खोल दिया है। गुरुवार सुबह से ही गाजीपुर हाइवे पर गाड़ियों का जमावड़ा नजर आया। लेकिन दिल्ली पुलिस बल की तैनाती अभी भी मौजुद है। गाजीपुर बॉर्डर से सटे आनंद विहार में आम दिनों की तरह ही ट्रैफिक मूवमेंट चल रहा है।

दिल्ली की दो सीमाएं बंद

दिल्ली आनेवाली दो सीमाएं बंद ऐसे में आम लोगों को यह जरूर जानना चाहिए कि दिल्ली में आने के लिए कौन से बॉर्डर खुले हैं और कौन से बंद। सिंघु (दिल्ली-सोनीपत) और टिकरी सीमा (दिल्ली-बहादुरगढ़) पर यातायात की आवाजाही रोक दी गई है। दंगा रोधी साजो-सामान के साथ सुरक्षाकर्मी तैनात हैं और स्थिति पर नजर रखने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया जा रहा है। सिंघु, टिकरी और गाजीपुर सीमा पर कई चरणों में अवरोधक, कंक्रीट के अवरोधक, लोहे की कीलें और कंटेनर लगाए गए हैं। पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि जरुरत पड़ने पर सीमाओं तथा मध्य दिल्ली में पहरा और भी बढ़ाया जाएगा।

चिल्ला बॉर्डर पर क्या है हाल?

ट्रैफिक पुलिस की तरफ से एडवाइजरी जारी कर कहा गया है कि डीएनडी फ्लाई ओवर पर चेकिंग की वजह से डीएनडी फ्लाई ओवर के दोनों कैरिज वे पर यातायात प्रभावित होने की उम्मीद है इसलिए नोएडा से दिल्ली और दिल्ली से नोएडा जाने वाले यात्री चिल्ला बॉर्डर से होकर जाएं। इस एडवाइजरी में कहा गया है कि रोहतक रोड, नजफगढ़-झरोदा रोड और नजफगढ़-धांसा रोड के जरिए बहादुरगढ़, रोहतक, झज्जर, गुरुग्राम की तरफ जाने वाले लोग नांगलोई चौक से नजफगढ़-नांगलोई रोड, नजफगढ़ से नजफगढ़- दरौला रोड और नजफगढ़ से नजफगढ़-छावला रोड का इस्तेमाल करें। दिल्ली मुख्य तौर से 10 सीमाओं से घिरी हुई है। इनमें से करीब 5 सीमाएं दिल्ली-यूपी को जोड़ती हैं और अन्य 5 सीमाएं दिल्ली-हरियाणा को जोड़ती हैं। मंगोलपुरी फ्लाईओवर, फिरनी रोड, नजफगढ़, एमडी रोड, चिराग दिल्ली, कालिंदी कुंज समेत कुछ अन्य इलाकों में जाम की स्थिति है। ट्रैफिक पुलिस की तरफ से कहा गया है कि जो लोग दिल्ली से बाहर निकलना चाहते हैं वो लोनी, औचंदी, जोंटी औक साफियाबाद रूट का इस्तेमाल करें।

क्या हैं किसानों की मांगें?

1. सभी फसलों की खरीद के लिए MSP गारंटी कानून बनाने की मांग।

2. डॉ. स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट के हिसाब से फसलों की कीमत तय करने की मांग।

3. किसान और खेत में काम करने वाले मजदूरों का कर्जा माफ करने की मांग।

4. 60 साल से ज्यादा उम्र के किसानों को 10 हजार रुपये पेंशन देने की मांग।

5. भूमि अधिग्रहण अधिनियम 2013 दोबारा लागू करने की मांग।

6. लखीमपुर खीरी कांड में दोषियों के लिए सजा की मांग।

7. मुक्त व्यापार समझौतों पर रोक लगाने की मांग।

8. विद्युत संशोधन विधेयक 2020 को रद्द करने की मांग।

9. मनरेगा में हर साल 200 दिन का काम और 700 रुपये मजदूरी देने की मांग।

10. किसान आंदोलन में मृत किसानों के परिवारों को मुआवजा और सरकारी नौकरी देने की मांग।

11. घायलों को 10 लाख रुपये का मुआवजा और दिल्ली मोर्चा सहित देशभर में सभी आंदोलनों के दौरान दर्ज सभी मुकदमे रद्द करने की मांग।

12. नकली बीज, कीटनाशक दवाइयां और खाद वाली कंपनियों पर कड़ा कानून बनाने और फसल बीमा सरकार को खुद कराने की मांग।

13. मिर्च, हल्दी और अन्य मसालों के लिए राष्ट्रीय आयोग का गठन करने की मांग।

14. संविधान की 5वीं सूची को लागू कर आदिवासियों के जमीन की लूट बंद करने की मांग।

15. किसानों को प्रदूषण कानून से बाहर रखने की मांग।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.