Electoral Bond: चुनाव आयोग ने जारी किया डेटा, किस पार्टी को कितना मिला चंदा? 10 पॉइंट में समझे

New Delhi: चुनाव आयोग ने एक डेटा जारी किया है। इस डेटा में चुनाव आयोग ने बताया कि किस पार्टी को कितना चंदा मिला है। इस लिस्ट में BJP टॉप पर है।
Electoral Bond
Electoral Bond Raftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। चुनाव आयोग ने 17 फरवरी को चुनावी बॉन्ड पर राजनीतिक दलों से प्राप्त डेटा जारी किया है। जिसे उसने जनता के लिए उपलब्ध कराने के शीर्ष अदालत के निर्देश के बाद सीलबंद लिफाफे में सुप्रीम कोर्ट को दिया था। माना जा रहा है कि ये रिपोर्ट 12 अप्रैल 2019 से पहले की अवधि के हैं।

फ्यूचर गेमिंग और होटल सर्विसेज ने खरीदा सबसे अधिक बॉन्ड

2018 में पेश हुए चुनावी बॉन्ड योजना के बाद चुनाव आयोग के आंकड़ों से पता चलता है कि केंद्र में सत्तारूढ़ BJP को चुनावी बॉन्ड से 6,986.5 करोड़ की अधिकतम धनराशि प्राप्त हुई है। फ्यूचर गेमिंग और होटल सर्विसेज चुनावी बॉन्ड का टॉप खरीददार है। इस कंपनी ने 1,368 करोड़ा का बॉन्ड खरीदा। फ्यूचर गेमिंग भुगतान ने तमिलनाडु की सत्तारूढ़ पार्टी DMK को 509 करोड़ का दान दिया।

SBI ने सौंपा था चुनाव आयोग को डेटा

यह खुलासा सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों पर चुनाव आयोग द्वारा सार्वजनिक किए गए कुल 523 मान्यता प्राप्त और गैर-मान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों के डेटा है। चुनावी बॉन्ड बेचने और भुनाने के लिए अधिकृत एकमात्र बैंक SBI द्वारा प्रस्तुत की गई जानकारी के आधार पर पिछले सप्ताह पोल पैनल द्वारा प्रकाशित एक और डेटासेट का अनुसरण किया गया।

इन 10 पॉइंट में समझे

1.ED की जांच के तहत सैंटियागो मार्टिन से जुड़े फ्यूचर गेमिंग ने DMK द्वारा बताए गए ₹656.5 करोड़ चुनावी बॉन्ड प्राप्तियों में 77 प्रतिशत से अधिक का योगदान दिया।

2. फ्यूचर गेमिंग द्वारा खरीदे गए बाकी ₹859 करोड़ के बॉन्ड के लाभार्थियों का खुलासा अधिकांश राजनीतिक दलों की ओर से दानकर्ता की अधूरी जानकारी के कारण नहीं हुआ है।

3. 2018 में चुनावी बॉन्ड की शुरुआत के बाद से प्राप्त धन के मामले में BJP सबसे आगे है। पार्टी को कुल ₹6,986.5 करोड़ का दान मिला है।

4. चुनाव आयोग के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, पश्चिम बंगाल की TMC को ₹1,397 करोड़ का दान मिला है। उसके बाद कांग्रेस को ₹1,334 करोड़ और BRS को ₹1,322 करोड़ का दान मिला है।

5. ओडिशा की सत्तारुढ़ पार्टी BJD इस लिस्ट में पांचवें स्थान पर है। जिसे ₹944.5 करोड़ का दान मिला है। इसके बाद DMK को ₹656.5 करोड़ और आंध्र प्रदेश की YSR Congress को लगभग ₹442.8 करोड़ का दान मिला है।

6. अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी ने ₹10.84 करोड़ के कुल दान का खुलासा किया। जिसमें गुमनाम रूप से डाक द्वारा प्राप्त ₹10 करोड़ के 10 बॉन्ड भी शामिल हैं।

7. DMK ने दान दाताओं की पहचान का खुलासा किया है। BJP, कांग्रेस और TMC जैसी प्रमुख पार्टियों ने चुनाव आयोग को यह जानकारी पूरी तरह से नहीं दी है। जिसे अब सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के कारण सार्वजनिक कर दिया गया है।

8. तेलुगु देशम पार्टी (TDP) को कुल ₹181.35 करोड़, शिवसेना को ₹130.38 करोड़, राष्ट्रीय जनता दल (RJD) को ₹56 करोड़, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) को ₹50.51 करोड़, सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा को ₹15.5 करोड़, समाजवादी पार्टी को ₹14.05 करोड़, अकाली दल को ₹7.26 करोड़, AIDMK को ₹6.05 करोड़, नेशनल कॉन्फ्रेंस (एनसी) भारती ग्रुप को ₹50 लाख, और सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट को ₹50 लाख का दान मिला है।

9. AAP ने अबतक चुनावी बॉन्ड का आंकड़ा नहीं दिया है। लेकिन SBI के रिकॉर्ड से पता चलता है कि AAP को ₹65.45 करोड़ का दान मिला है। चुनाव आयोग के साथ फाइलिंग के बाद अन्य ₹3.55 करोड़ का हिसाब लगाने के बाद, AAP को प्राप्त कुल राशि ₹69 करोड़ है।

10. चुनाव आयोग द्वारा जारी नवीनतम डेटा सेट में राजनीतिक दलों द्वारा किए गए खुलासों की स्कैन की गई प्रतियां शामिल हैं, जो सैकड़ों पृष्ठों में फैली हुई हैं।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.