JEE : 39 छात्रों पर NTA ने लगाया तीन साल का बैन, नहीं दे पाएंगे IIT में भर्ती वाली परीक्षा

एजंसी ने पहले जेईई-मेन सेशन 2 के पहले दिन अनुचित साधन प्रयोग (UFM) के मामले में नौ पकड़े। धोखाधड़ी के मामलों का पता एआई और आईफेस का उपयोग करके पता लगाया गया।
JEE Mains 2024
JEE Mains 2024 Social media

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। नेशनल टेस्टिंग एजंसी (एनटीए) ने एक नोटिस जारी कर कहा है कि करीब 39 परीक्षार्थी अगले तीने साल तक के लिए ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जाम यानि जेईई में नहीं बैठ पाएंगे। सूचना के मुताबिक, इन परीक्षार्थियों ने जेईई 2024 में अनुचित साधन का प्रयोग किया था जिसके परिणाम स्वारूप यह 3 साल तक दोबारा एग्जाम नहीं दे सकेंगे।

धोखाधड़ी के मामले आए सामने

एजंसी ने पहले जेईई-मेन सेशन 2 के पहले दिन गलत पहचान के एक मामले और अनुचित साधन के नौ मामलों की सूचना दी थी। धोखाधड़ी के मामलों का पता एआई, आईफेस का उपयोग करके लगाया पता लगाया गया था।

एजंसी ने ली एआई की मदद

एजंसी ने परीक्षा उम्मीदवारों की पहचान सुनिश्चित करने के लिए आईफेस नामक एआई तकनीक पेश की थी। इसमें इलेक्ट्रॉनिक नो योर कस्टमर (ईकेवाईसी) प्रक्रियाओं के साथ-साथ परीक्षा केंद्र पर ली गई लाइव तस्वीर के साथ एडमिट कार्ड पर फोटो को क्रॉस-चैक करना शामिल है। एनटीए ने बायोमेट्रिक, तलाशी, सीसीटीवी निगरानी और जैमिंग सेवाएं प्रदान करने के लिए पर्याप्त कार्यबल भी तैनात किया था।

कब हुई परीक्षा आयोजित

इस साल जेईई मेन परीक्षा दो सत्रों में आयोजित की गई थी। पहला सत्र 28, 29, 30, 31 जनवरी और 1 फरवरी को आयोजित किया गया था। दूसरा सत्र 4 से 9 अप्रैल तक आयोजित किया गया था। पेपर 1 (बीई / बीटेक) का परिणाम 24 अप्रैल, 2024 को घोषित किया गया था।

स्कोरकार्ड नहीं देख पाए कई परीक्षार्थी

जेईई मेन 2024 के परिणाम की घोषणा के बाद, उम्मीदवारों द्वारा अपने स्कोरकार्ड प्रदर्शित न करने आदि के संबंध में कुछ मुद्दे उठाए गए हैं। इस संबंध में, सार्वजनिक नोटिस और जेईई के सूचना बुलेटिन के माध्यम से पहले ही सूचित किया जा चुका है।

एक से अधिक आवेदन यूएफएम की श्रेणी में

एनटीए द्वारा जारी सूचना में बताया गया है कि एक से अधिक आवेदन संख्या या एक से अधिक स्कोर कार्ड वाले किसी भी उम्मीदवार को यूएफएम यानि अनुचित साधन का प्रयोग किया माना जाएगा। फिर चाहे वह भले ही बाद के किसी चरण में पाया जाए। उस उम्मीदवार के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। इसलिए कोर्ट के निर्देश के बाद कोई अभ्यर्थी एक साल में एक ही परीक्षा के लिए अलग-अलग आवेदन संख्या पर दो स्कोरकार्ड नहीं प्राप्त कर सकता है। इस प्रकार, अलग-अलग आवेदन संख्या के साथ एक से अधिक बार उपस्थित होने वाले उम्मीदवारों के लिए, एनटीए ने स्कोरकार्ड में उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर घोषित किया है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.