Delhi Liquor Policy Scam: ED के समन पर केजरीवाल का जवाब, कहा- समन राजनीति से प्रेरित और अवैध

New Delhi: आबकारी नीति घोटाला मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल फिर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के समक्ष पेश नहीं होंगे। ईडी ने केजरीवाल को आज पेश होने का समन जारी किया था।
CM Arvind Kejriwal 
Enforcement Directorate
CM Arvind Kejriwal Enforcement DirectorateRaftaar.in

नई दिल्ली, हि.स.। आबकारी नीति घोटाला मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल फिर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के समक्ष पेश नहीं होंगे। ईडी ने केजरीवाल को आज पेश होने का समन जारी किया था। जिसे लेकर केजरीवाल ने जवाब दिया है। यह लगातार दूसरी बार है जब केजरीवाल ईडी के समन पर पूछताछ में शामिल नहीं होंगे। वे विपश्यना केंद्र के लिए एक दिन पहले रवाना हो गए, जहां वे 30 दिसंबर तक रहेंगे।

मैं किसी भी कानूनी समन का जवाब देने को तैयार

सूत्रों ने आज दी जानकारी में बताया कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ईडी के समक्ष आज भी पेश होंगे। केजरीवाल ने ईडी के दूसरे समन का जवाब दिया है। जांच एजेंसी को भेजे जवाब में केजरीवाल ने कहा कि मैं किसी भी कानूनी समन का जवाब देने को तैयार हूं। उन्होंने जवाब में लिखा है, ‘मेरे पास छिपाने के लिए कुछ नहीं है। ये समन राजनीति से प्रेरित और अवैध है।

ईडी को इस समन को वापस लेना चाहिए

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने शराब नीति घोटाला मामले में उन्हें जारी ईडी के दूसरे समन पर अपने जवाब में कहा है कि ईडी का यह समन भी जांच एजेंसी के जारी पिछले समन की तरह अवैध है। ईडी को इस समन को वापस लेना चाहिए, जो राजनीति से प्रेरित है। मैंने अपना जीवन ईमानदारी और पारदर्शिता के साथ जीया है। मेरे पास छिपाने के लिए कुछ भी नहीं है।

आबकारी नीति घोटाला मामले में भेजा समन

उल्लेखनीय है कि केंद्रीय जांच एजेंसी ईडी ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को आबकारी नीति घोटाला मामले में समन भेज कर 21 दिसंबर को पेश होने और बयान दर्ज कराने के लिए कहा था। ईडी का केजरीवाल को भेजा गया यह दूसरा समन था। एजेंसी ने इससे पहले 2 नवंबर को केजरीवाल को पूछताछ के लिए बुलाया था। केजरीवाल उस वक्त भी यह आरोप लगाते हुए केंद्रीय जांच एजेंसी के समक्ष उपस्थित नहीं हुए कि नोटिस “अस्पष्ट, (राजनीति से) प्रेरित और कानून के मुताबिक विचारणीय नहीं” था।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.