केजरीवाल ने खटखटाया High Court का दरवाजा, ED द्वारा गिरफ्तारी-रिमांड की याचिका पर आज होगी सुनवाई

New Delhi: दिल्ली शराब नीति घोटाले में अरविंद केजरीवाल की ED द्वारा गिरफ्तारी के बाद आज दिल्ली हाई कोर्ट में उनकी ओर से दर्ज याचिका पर सुनवाई होगी।
Arvind Kejriwal 
Delhi Liquor Policy
Arvind Kejriwal Delhi Liquor PolicyRaftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। दिल्ली शराब नीति घोटाले में ED द्वारा गिरफ्तारी को उन्होंने अवैध करार दिया है। केजरीवाल ने अपनी गिरफ्तारी और रिमांड को कोर्ट में चुनौती दी है। आज इस मामले में जस्टिस स्वर्ण कांता शर्मा की बेंच में सुनवाई होगी।

6 दिन की ED रिमांड पर केजरीवाल

दिल्ली शराब घोटाला के आरोप में 21 मार्च को गिरफ्तार किए गए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को राउज एवेन्यू कोर्ट में 22 मार्च को पेश किया गया। जहां ED ने उनकी 10 दिन की हिरासत की मांग की। दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद कोर्ट ने केजरीवाल को 28 मार्च तक की रिमांड पर भेज दिया। स्पेशल जज कावेरी बावेजा की अदालत को ED का प्रतिनिधित्व कर रहे एएसजी एसवी राजू ने बताया कि शराब नीति इस तरह से बनाई गई थी। जिससे रिश्वत को बढ़ावा मिला। उन्होंने दावा किया कि केजरीवाल ने एहसान के बदले साउथ ग्रुप से 200 करोड़ की रिश्वत की मांग की। रिश्वत के बदले साउथ ग्रुप ने दिल्ली में शराब कारोबार का नियंत्रण हासिल कर लिया।

हाई प्रोफाइल गिरफ्तारी

केजरीवाल की गिरफ्तारी दिल्ली हाई कोर्ट से दिल्ली शराब नीति घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग के पहलू की जांच के सिलसिले में कोर्ट से किसी भी तरह की सुरक्षा देने से इनकार करने के कुछ घंटों बाद हुई है। इस मामले में यह 16वीं गिरफ्तारी है। इस मामले में केजरीवाल की गिरफ्तारी के 1 सप्ताह पहले ही 15 मार्च को ED ने तेलंगाना के पूर्व मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की बेटी और भारत राष्ट्र समिति (BRS) की नेता के कविता को हैदराबाद गिरफ्तार किया था। उन पर भी मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप हैं। दिल्ली शराब घोटाले में मनीष सिसोदिया और संजय सिंह को ED पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। इस मामले में अब चौथी हाई प्रोफाइल गिरफ्तारी की गई है। इन नेताओं को PMLA के सेक्शन 3 और सेक्शन 4 के तहत मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.