DDA ने डिमोलिशन ड्राइव के तहत तोड़ा घर, रैट माइनर के वकील बोले- ऐसी जगह दे रहे फ्लैट जहां कुत्ते भी नहीं...,

Delhi News: रैट माइनर वकील हसन ने सरकार पर अपनी नाराजगी जताते हुए कहा कि उन्हें जहां शिफ्ट किया जा रहा है, वो नरेला की ऐसी जगह है, जहां कुत्ते भी नहीं रहते हैं।
रैट माइनर वकील हसन
रैट माइनर वकील हसनraftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। रैट माइनर वकील हसन ने सरकार पर अपनी नाराजगी जताते हुए कहा कि उन्हें जहां शिफ्ट किया जा रहा है, वो नरेला की ऐसी जगह है, जहां कुत्ते भी नहीं रहते हैं। दरअसल वकील हसन वही इंसान हैं जिन्होंने उत्तराखंड की सिलकियारा उत्तरकाशी टनल में रेस्क्यू ऑपरेशन करने वाली टीम के साथ मिलकर फंसे मजदूरों को बचाया था। वह रेस्क्यू टीम के सदस्य थे। बुधवार को डीडीए ने डिमोलिशन ड्राइव के तहत उनका घर भी तोड़ दिया था। जिसके बाद उनकी पत्नी का एक वीडियो सोशल मीडिया में काफी वायरल हुआ था। जिसके बाद विपक्ष केंद्र सरकार पर हावी होने लगी थी।

दिल्ली के गवर्नर वीके सक्सेना और सांसद मनोज तिवारी भी मेरी मदद नहीं कर पाएंगे

रैट माइनर वकील हसन अपने परिवार के साथ धरने पर बैठे और कहा कि उन्हें ऐसी जगह भेजा जा रहा है अगर वहां मेरे बच्चों के साथ कोई घटना होती है तो दिल्ली के गवर्नर वीके सक्सेना और सांसद मनोज तिवारी भी मेरी मदद नहीं कर पाएंगे। वहीं उनके परिवार को सर्द रात में खुले में रहना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि स्थानीय लोगो ने उन्हें खाना और पानी उपलब्ध कराया। उन्होंने बताया कि उन्हें सरकार की तरफ से नरेला में EWS फ्लैट में ले जाया गया। जो कि ऐसे स्थान में है, जहां कुत्ते भी नहीं रहते हैं।

पीड़ित परिवार का मुद्दा उठाते हुए कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा

इसको लेकर विपक्ष सरकार पर हावी होती नजर आयी। पीड़ित परिवार का मुद्दा उठाते हुए कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने रैट माइनर की पत्नी का वीडियो अपने सोशल मीडिया अकाउंट एक्स पर शेयर करते हुए लिखा था “मेरे हसबैंड तो हीरो थे उत्तरकाशी के… 41 लोगों की जान बचाई थी उन्होंने… सब उन्हें सम्मान दे रहे थे। आज उस सम्मान के बदले मेरा मकान ले लिया!” वकील हसन ने अपनी जान जोखिम में डालकर उत्तरकाशी सुरंग में फंसे मजदूरों की जान बचाई थी। तब अपने प्रचार के लिए भाजपा के बड़े-बड़े नेताओं ने उनके साथ तस्वीरें खिंचवाईं थीं। जब प्रचार खत्म हो गया तो आज उसी वकील हसन को थाने में बंद कर दिया और उनका घर तोड़कर उनके बच्चों के सिर से छत छीन ली। गरीबों का घर तोड़ना, उन्हें कुचलना, प्रताड़ित और अपमानित करना - यह अन्याय ही भाजपा के “अन्यायकाल” की सच्चाई है। जनता इस अन्याय का जवाब जरूर देगी।

उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत एक घर दिलवाएंगे

इस मामले को लेकर भाजपा नेता मनोज तिवारी ने बड़ा बयान दिया था और कहा था कि उनके घर का कोई कानूनी मसला था। हमने इस विषय में चर्चा की है और उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत एक घर दिलवाएंगे।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.