इंहैरिटेंस टैक्स के बाद पित्रोदा की नई टिप्पणी से कांग्रेस की बढ़ीं मुश्किलें; पित्रोदा का इस्तीफा मंजूर

कांग्रेस के जयराम रमेश ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर पोस्ट कर दी सैम पित्रोदा के इस्तीफे की जानकारी।
Sam Pitroda
Sam Pitrodaraftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। दिग्गज कांग्रेसी और पार्टी की विदेशी इकाई के प्रमुख सैम पित्रोदा ने अपने विवादास्पद बयान के बाद पार्टी से इस्तीफा दे दिया। उनकी टिप्पणियों को नस्लवादी बताते हुए, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा के नेताओं ने कांग्रेस पर विभाजनकारी प्रथाओं को अपनाने का आरोप लगाया है। पित्रोदा के इस्तीफे की घोषणा कांग्रेस नेता जयराम रमेश की सोशल मीडिया प्लेटफर्म एक्स पर एक पोस्ट से हुई। पोस्ट में कहा गया कि सैम पित्रोदा ने अपनी मर्जी से इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के अध्यक्ष पद से हटने का फैसला किया है। कांग्रेस अध्यक्ष ने उनके फैसले को स्वीकार कर लिया है।

पित्रोदा की टिप्पणी पड़ी भारी

एक मीडिया हाउस को दिए इंटरव्यू में सैम पित्रोदा ने भारत को इस तरह बताया कि जहां पूर्व में लोग चीनी जैसे दिखते हैं, पश्चिम में लोग अरब जैसे दिखते हैं, उत्तर में लोग गोरे जैसे दिखते हैं और भारत दक्षिण में लोग अफ़्रीका जैसे दिखते है। कांग्रेस पहले से ही पित्रोदा की इंहेरिटेंस टैक्स को लेकर की गई टिप्पणी पर परेशान थी। लेकिन पित्रोदा की एक और टिप्पणी ने उन्हें मुश्किल में डाल दिया। इस टिप्पणी से पूरा देश प्रभावित हुआ है। क्योंकि यह टिप्पणी देश के हर कोने में रह रहे नागरिक के लिए थी। इसलिए पार्टी ने तुरंत सैम पित्रोदा की टिप्पणी से खुद को अलग कर लिया।

इंहैरिटेंस टैक्स पर हुआ विवाद

चुनाव के बीच पित्रोदा की बेतुकी टिप्पणियाँ कांग्रेस के लिए एक चुनौती साबित हुई हैं। पिछले महीने, उन्होंने संयुक्त राज्य अमेरिका में नई नीतियों के उदाहरण के रूप में इंनहैरिटेंस टैक्स पर एक टिप्पणी की थी जो धन की एकाग्रता को रोकने में मदद कर सकती है और इस पर चर्चा और बहस होनी चाहिए। उन्होंने कहा था कि कांग्रेस हमेशा आर्थिक तौर निचले स्तर के लोगों की मदद करती है। इस पर बीजेपी ने तीखा हमला बोला था। पीएम मोदी ने टिप्पणी की थी कि अगर कांग्रेस चुनी गई तो वह लोगों की निजी संपत्ति को घुसपैठियों में बांट देगी और महिलाओं के मंगलसूत्रों को भी नहीं बख्शेगी।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.