दिल्ली में कोरोना के नए मामले एक हजार से हुए कम, लेकिन वैक्सीन को लेकर सियासत जारी

new-cases-of-corona-in-delhi-are-less-than-one-thousand-but-politics-continues-regarding-vaccine
new-cases-of-corona-in-delhi-are-less-than-one-thousand-but-politics-continues-regarding-vaccine

नई दिल्ली,29 मई (हि. स.) । राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना संक्रमण के नए मामले अब एक हजार से नीचे आ गए हैं। ये पहली बार है जब दिल्ली में कोरोना के नए मामले ट्रिपल डिजिट में पहुंच गए हों। दिल्ली सरकार की तरफ से जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार बीते 24 घण्टे में यहाँ कोरोना संक्रमण के 956 नए केस आये हैं। वहीं इस दौरान संक्रमण दर 1.19 प्रतिशत की दर्ज की गई। जबकि 122 लोगों को इस संक्रमण के कारण अपनी जान गंवानी पड़ी है। दिल्ली सरकार ने इस बीच 80,473 टेस्ट करवाए। दिल्ली में बीते 24 घंटे में 2380 लोग पूरी तरह से स्वस्थ होकर वापस घर गए हैं। राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना के घटते इन्हीं आंकड़ों के चलते 1 जून से चरणबद्ध तरीके से लॉकडाउन हटाने का निर्णय लिया गया है। वहीं दूसरी तरफ दिल्ली सरकार का आरोप है कि राष्ट्रीय राजधानी वैक्सीन की कमी से लेकर बुरी तरह जूझ रही है। सरकार का कहना है कि हम सभी को वैक्सीन लगाना चाहते हैं लेकिन हमारे पास वैक्सीन बची नहीं है और केंद्र सरकार हमें हमारी जरूरत के आधार पर वैक्सीन उपलब्ध नहीं कर रही है। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया कहते हैं कि वैक्सीन को लेकर देश में हाहाकार मचा हुआ है, सभी राज्य सरकारें वैक्सीन का इंतज़ार कर रही है। केंद्र सरकार ने वैक्सीन विदेशों को भेज दी, समय पर ऑर्डर नहीं किए, जिसकी वजह से सब वैक्सीन के लिए भटक रहे हैं। उपमुख्यमंत्री यहीं नहीं रुके उन्होंने ने केंद्र सरकार पर वैक्सीन को निजी अस्पतालों में देने का आरोप तक लगा डाला, उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार जब कहती है कि उसे युवाओं को फ्री वैक्सीन लगानी है तो केंद्र सरकार कहती है वैक्सीन नहीं है। लेकिन प्राइवेट अस्पताल उसी युवा वर्ग को वैक्सीन लगाने के लिए कंपनियों से खरीदती है तो केंद्र उन्हें वैक्सीन दिलवा देती है। हिन्दुस्थान समाचार/ श्वेतांक

Related Stories

No stories found.