HNCB: मनोहर सरकार और हरियाणा पुलिस की अनोखी पहल, हैकाथॉन नशामुक्ति अभियान को इस दिन दिखाएंगे हरी झंडी

Chandigarh: हरियाणा पुलिस तथा राज्य सरकार द्वारा 4 फरवरी को हैकाथॉन का फाइनल राउंड आयोजित किया जा रहा है। इससे युवाओं को ड्रग से मुक्ति दिलाने के लिए जागरुक किया जाएगा।
HNCB: मनोहर सरकार और हरियाणा पुलिस की अनोखी पहल, हैकाथॉन नशामुक्ति अभियान को इस दिन दिखाएंगे हरी झंडी

चंडीगढ़, हि.स.। हरियाणा पुलिस तथा हरियाणा राज्य नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो द्वारा 4 फरवरी को हैकाथॉन का फाइनल राउंड आयोजित किया जा रहा है जिसमें देशभर की टॉप 10 टीमों द्वारा भाग लेते हुए नशामुक्ति को लेकर प्रोटोटाइप्स/सॉल्यूशन प्रस्तुत किए जाएंगे। हरियाणा पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि इस कार्यक्रम में प्रत्येक टीम को अपने प्रोटोटाइप्स/सॉल्यूशन प्रस्तुत करने के लिए लगभग 20 मिनट का समय दिया जाएगा।

जागरुकता अभियान होगा लांच

इस प्रतियोगिता के फाइनल राउंड के परिणाम घोषित करने के लिए विशेषज्ञों का पैनल तैयार किया गया है जो निर्धारित पैरामीटर के अनुरूप आंकलन करते हुए उत्कृष्ट टीमों का चयन करेगा। प्रथम, द्वितीय तथा तृतीय स्थान प्राप्त करने वाली टीमों के इनोवेटिव आइडियाज को भविष्य में हरियाणा पुलिस द्वारा उपयोग में लाते हुए लोगों को नशामुक्ति के लिए जागरूक किया जाएगा।

3 दिसंबर से शुरू हुआ हैकाथॉन

हरियाणा पुलिस महानिदेशक शत्रुजीत कपूर ने बताया कि युवाओं को नशे से बचाने तथा उन्हें नशे के दुष्प्रभावों के बारे में प्रभावी तरीके से अवगत करवाने को लेकर हरियाणा पुलिस तथा हरियाणा राज्य नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो द्वारा संयुक्त रूप से डिजिटल प्लेटफार्म के माध्यम से हैकाथॉन का आयोजन किया जा रहा है। 3 दिसंबर से शुरू हुए हैकाथॉन में देश भर के कॉलेजों, विश्वविद्यालयों तथा अन्य संस्थानों से 3100 प्रतिभागियों ने भाग लेते हुए नशामुक्ति को लेकर प्रोटोटाइप्स/सॉल्यूशन तैयार किए। इनमें से टॉप 10 टीमों को चयनित करते हुए उनका फाइनल राउंड के लिए चयन किया गया है।

हैकाथॉन के जरिए इनोवेटिव समाधान तलाशने की पहल

पंचकूला के पुलिस आयुक्त सिबाश कबिराज ने बताया कि वर्तमान समय में डिजिटल मीडिया लोगों तक अपनी बात पहुंचाने का सशक्त माध्यम है। लोगों तक नशामुक्ति का संदेश पहुंचाने के लिए पारंपरिक तौर-तरीकों के साथ साथ डिजिटल प्लेटफॉर्म का भी इस्तेमाल किया जाना अत्यंत आवश्यक है। उन्होंने बताया कि युवाओं के जीवन में कई तरह के उतार-चढ़ाव आते हैं जिससे वे कई बार अपने रास्ते से भटक कर नशे जैसे गलत रास्तों पर चल पड़ते हैं। हैकाथॉन के माध्यम से युवाओं को इन गलत रास्तों पर जाने से रोकने के लिए इनोवेटिव समाधान तलाशने की पहल की गई है ताकि वे मानसिक रूप से मजबूत बने और विपरीत परिस्थितियां आने पर अपने विवेक का इस्तेमाल करते हुए खुद को इन रास्तों पर जाने से रोकें।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.