बिहार लोक सेवा आयोग ने 46000 से अधिक पदों में निकाली वैकेंसी, ये लोग कर सकते हैं इस तारीख से आवेदन

BPSC Vacancy: बिहार के उन युवाओं के लिए बहुत बड़ी खुशी की खबर है, जो शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े हुए हैं।
बिहार लोक सेवा आयोग
बिहार लोक सेवा आयोगraftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। बिहार के उन युवाओं के लिए बहुत बड़ी खुशी की खबर है, जो शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े हुए हैं। दरअसल बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) ने 46 हजार से अधिक पदों के लिए राज्य में वैकेंसी निकाली है। यह वैकेंसी प्रधानाध्यापक और हेड टीचर की है। बिहार लोक सेवा आयोग ने अपनी वेबसाइट पर दोनों श्रेणी के पदों की भर्ती प्रक्रिया की पूरी जानकारी अपलोड कर दी है।

जिसके आवेदन आयोग 11 मार्च से आनलाइन स्वीकार करना शुरू कर देगा

बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) ने यह वैकेंसी शिक्षा विभाग तथा अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण विभाग के अंतर्गत उच्च माध्यमिक विद्यालयों में प्रधानाध्यापक और शिक्षा विभाग के प्राथमिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षकों के लिए निकाली है। जिसमे प्रधानाध्यापक के 6,061 पद और प्रधान शिक्षकों के 40 हजार 247 पदों पर नियुक्ति होनी है। जिसके आवेदन आयोग 11 मार्च से आनलाइन स्वीकार करना शुरू कर देगा।

सारे दिशा-निर्देश का अध्ययन कर लें, त्रुटि में सुधार के अवसर नहीं दिए जायेंगे

अगर आप भी इसकी पूरी जानकारी लेना चाहते हैं तो आयोग की वेबसाइट https://www.bpsc.bih.nic.in/ में क्लिक करके सारी प्रक्रिया जान सकते हैं। सचिव रविभूषण ने जानकारी दी कि 2 अप्रैल तक आयोग आनलाइन आवेदन स्वीकार करेगा। कैंडिडेट विज्ञापन से जुड़ी किसी भी प्रकार की जानकारी के लिए आयोग की वेबसाइट में विजिट करें। उन्होंने कैंडिडेट के लिए संदेश दिया है कि आयोग की वेबसाइट में सारे दिशा-निर्देश का अध्ययन कर लें, त्रुटि में सुधार के अवसर नहीं दिए जायेंगे।

इन शिक्षकों के लिए यह प्रावधान नहीं है

आयोग के नोटिफिकेशन में साफ लिखा हुआ है कि 2012 या उसके बाद भर्ती हुए शिक्षकों को आवेदन के लिए शिक्षक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण करना आवश्यक है। वहीं आयोग ने वर्ष 2012 से पहले भर्ती हुए शिक्षकों के लिए दक्षता परीक्षा में उत्तीर्ण होना अनिवार्य किया है। आयोग ने सीबीएसई, आइसीएसई तथा बिहार बोर्ड के विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों के लिए यह प्रावधान नहीं रखा है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.