अयोध्या-लखनऊ मार्ग पर 32.63 करोड़ की लागत से बनेगा गौ तीर्थाटन केन्द्र, गौभक्तों के लिए होगा तीर्थ स्थल

Uttar Pradesh: लखनऊ से अयोध्या मार्ग पर कमता से कुछ दूरी पर उत्तरधौना गांव में 32.63 करोड़ की लागत से गौ तीर्थाटन केन्द्र बनेगा। इस केन्द्र को आधुनिक व प्राकृतिक गौशाला की तरह तैयार किया जायेगा।
Cow
Cowraftaar.in

लखनऊ, (हि.स.)। लखनऊ से अयोध्या मार्ग पर कमता से कुछ दूरी पर उत्तरधौना गांव में 32.63 करोड़ की लागत से गौ तीर्थाटन केन्द्र बनेगा। इस केन्द्र को आधुनिक व प्राकृतिक गौशाला की तरह तैयार किया जायेगा।

नगर निगम उत्तरधौना गांव में एक भव्य गौशाला का निर्माण करेगा

नगर निगम लखनऊ की कार्यकारिणी की बैठक में पास हुए प्रस्तावों की जानकारी देते हुए महापौर सुषमा खर्कवाल ने गौ तीर्थाटन केन्द्र की जानकारी साझा की। महापौर ने कहा कि नगर निगम उत्तरधौना गांव में एक भव्य गौशाला का निर्माण करेगा। जहां पर गायों को बांधा नहीं जाएगा और वह खुले में घूम-टहल सकेगी।

स्विट्जरलैंड की गौशालाओं में गाय खुले में घूमती हैं: महापौर

सुषमा खर्कवाल ने कहा कि उत्तरधौना गांव में 9.912 हेक्टेयर जमीन ली जा रही है। जिस पर बनने वाली गौशाला को गौ तीर्थाटन केन्द्र के रुप में विकसित करेंगे। जिसे देखने आने वाले लोगों को प्राकृतिक सुंदरता के साथ ही गौशाला में आधुनिकता भी दिखायी देगी। महापौर ने कहा कि स्विट्जरलैंड के बारे में बताया जाता है कि वहां गौशालाओं में गाय खुले में गाय घूमती हैं।

गौशाला में दो हजार गाय रखने की योजना है

गौ तीर्थाटन केन्द्र के बारे में लखनऊ के नगर आयुक्त इंद्रजीत सिंह ने कहा कि गौशाला में दो हजार गाय रखने की योजना है। जहां पर गाय के लिए पशु चिकित्सक व कर्मचारी तैनात किए जाएंगे। गौशाला में गाय से जुड़ा हुआ संग्रहालय, अन्नपूर्णा भोजनालय सहित तमाम आवश्यकताओं की वस्तुओं को विकसित किया जाएगा।

गौभक्तों के लिए यह एक तीर्थ स्थल के रुप में होगा

उन्होंने कहा कि लखनऊ आने वाले लोगों को अयोध्या जाते हुए इस वृहद गौशाला अर्थात गौ तीर्थ स्थल को देखने का मौका मिलेगा। गौभक्तों के लिए यह एक तीर्थ स्थल के रुप में होगा। साथ ही पर्यटकों को भी आकर्षित करेगा। यह नगर निगम लखनऊ का बहुत ही बढ़िया कदम है। राह में गौ भक्तो को गौ सेवा का मौका मिलेगा। अन्य प्रदेश भी इससे सीख लेंगे और इस तरह की गौशाला को अपने यहाँ बनवाएंगे।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.