Ayodhya Ram Mandir के लिए पैसे दान कर बचा सकते हैं टैक्स, जानें तरीका

Ayodhya Ram Mandir Donation: पूरे देश में इन दिनों में अयोध्या राम मंदिर को लहर है। हर कोई आस्था के रंग में रंगा है। वहीं, यह अवसर कई मामलों में लाभदायक साबित हो रहा है।
अयोध्या राम मंदिर।
अयोध्या राम मंदिर।सोशल मीडिया।

नई दिल्ली, रफ्तार। पूरे देश में इन दिनों में अयोध्या राम मंदिर को लहर है। हर कोई आस्था के रंग में रंगा है। वहीं, यह अवसर कई मामलों में लाभदायक साबित हो रहा है। अगर, आप भी इस मौके का धार्मिक के अलावा आर्थिक तौर पर लाभ उठाना चाहते हैं तो हम उसका तरीका बता रहे हैं। राम मंदिर के लिए दान करके आप अपना टैक्स बचा सकते हैं।

ट्रस्ट की वेबसाइट के जरिए कर सकते हैं डोनेशन

भारत सरकार ने राम मंदिर निर्माण की देखरेख के लिए श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की स्थापना की है। यह अथराइज्ड बॉडी है। राम मंदिर के लिए पैसे का डोनेशन कोई व्यक्ति श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की वेबसाइट के जरिए कर सकता है। वेबसाइट के मुताबिक ट्रस्ट को पैसे डोनेट करने के लिए किसी प्रकार का शुल्क या चार्ज नहीं देना होगा। कोई व्यक्ति अलग-अलग तरीकों से ऑनलाइन डोनेट कर सकता है। पेमेंट करने के लिए गेटवे, UPI/QR कोड/ NEFT/IMPS/ डिमांड ड्राफ्ट/ चेक से ऑनलाइन पेमेंट कर सकते हैं।

डोनेशन की रसीद तुरंत जारी होगी

कोई व्यक्ति पैसे का डोनेशन करने के लिए पेमेंट गेटवे का इस्तेमाल कर रहा है तो सक्सेसफुल पेमेंट होने पर डोनेशन की रसीद तुरंत जारी की जाएगी। जबकि, UPI/QR कोड/NEFT/IMPS/डिमांड ड्राफ्ट/चेक से डोनेशन पर रसीद अयोध्या राम मंदिर ट्रस्ट द्वारा डिटेल्स के सत्यापन के बाद जारी की जाएगी। डोनेशन की रसीद डाउनलोड करने के लिए 15 दिनों के बाद वेबसाइट चेक करनी चाहिए।

ये है पूरा प्रावधान

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की वेबसाइट के अनुसार केंद्र सरकार ने श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र (PAN: AAZTS6197B) को ऐतिहासिक महत्व का स्थान के रूप में अधिसूचित किया है। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र में मंदिर के नवीकरण/ मरम्मत के लिए स्वैच्छिक डोनेशन का 50% धारा-80 जी (2) (बी) के तहत कटौती को पात्र है, जो धारा-80 जी के तहत उल्लिखित अन्य शर्तों के अधीन है। आयकर अधिनियम 1961 के अनुसार 2000 रुपए से अधिक के नकद डोनेशन पर टैक्स कटौती की अनुमति नहीं है।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.