रामलला की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर योगी सरकार का ऐलान, 22 जनवरी को स्कूल रहेंगे बंद, प्रदेश में होगा ड्राई-डे

Ram Mandir Inauguration: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 22 जनवरी को श्री रामलला प्राण-प्रतिष्ठा समारोह को 'राष्ट्रीय उत्सव' के तौर पर मनाने की तैयारी कर ली है।
yogi Adityanath
yogi AdityanathRaftaar

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 22 जनवरी को श्री रामलला प्राण-प्रतिष्ठा समारोह को 'राष्ट्रीय उत्सव' के तौर पर मनाने की तैयारी कर ली है। इसके लिए मुख्यमंत्री योगी ने प्राण-प्रतिष्ठा समारोह से आम जनमानस के भावनात्मक जुड़ाव को देखते हुए 22 जनवरी को प्रदेश में शिक्षण संस्थाओं में अवकाश घोषित करने का निर्देश दे दिया हैं। इस विशिष्ट अवसर को राष्ट्रीय उत्सव' की संज्ञा देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा है कि 22 जनवरी को प्रदेश में मदिरा आदि की सभी दुकानें बंद रखी जाएंगी। प्राण-प्रतिष्ठा के दिन प्रदेश में मदिरा की बिक्री भी नहीं होगी।

अयोध्या में स्वच्छ्ता का ‘कुंभ मॉडल लागू हो

इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने आदेश में कहा कि अयोध्या में अगंतुकों को अविस्मरणीय आतिथ्य सत्कार मिले। इसके साथ ही 22 जनवरी को सभी सरकारी भवनों की साज-सज्जा कराई जाए एंव आतिशबाजी के भी प्रबंध किए जाए। मुख्यमंत्री योगी ने कहा 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा से पूर्व 14 जनवरी को हम स्वच्छता अभियान शुरू करेंगे। उन्होंने अयोध्या में स्वच्छ्ता का ‘कुंभ मॉडल लागू करने को कहा है।

अयोध्या दौरे पर आए मुख्यमंत्री

आपको बता दें आज मंगलवार को मुख्यमंत्री अयोध्या दौरे पर आए। यहां उन्होंने हनुमान गढ़ी के दर्शन-पूजन कर श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के पदाधिकारियों के साथ बैठक की। मकर संक्रांति के बाद प्रारंभ हो रहे प्राण प्रतिष्ठा के वैदिक अनुष्ठानों की जानकारी लेते हुए मुख्यमंत्री ने समारोह की सुरक्षा व अन्य व्यवस्थाओं में तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को सभी आवश्यक सहयोग के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया। इसके बाद, आयुक्त सभागार में स्थानीय जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति में स्थानीय प्रशासन के अधिकारियों से तैयारियों का जायजा लिया और आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

अयोध्या में 25-50 एकड़ में एक भव्य टेंट सिटी तैयार कराएं

इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि प्राण-प्रतिष्ठा समारोह में आ रहे गणमान्य जनों को अयोध्या में बेहतर सुविधाएं मिलनी चाहिए। हर एक वीवीआईपी के विश्राम स्थल का चयन पूर्व में ही कर लिया जाए। मौसम के दृष्टिगत संभव है कि कुछ अतिथि एक-दो दिन पहले ही आ जाएं, ऐसे में उनके रुकने की बेहतर व्यवस्था हो। मुख्यमंत्री योगी ने निर्देश दिया कि अयोध्या में होटल और धर्मशालाएं हैं। होम स्टे की व्यवस्था भी है। टेंट सिटी की संख्या और बढ़ाये जाने की आवश्यकता है। कुंभ की तर्ज पर अयोध्या में 25-50 एकड़ में एक भव्य टेंट सिटी तैयार कराएं।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.