Ram Mandir: पढ़े 'पालमपुर 1989' का वो इतिहास, जिस कारण 22 जनवरी 2024 को होगा राम मन्दिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह

Shimla News: पूर्व मुख्यमंत्री एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री शान्ता कुमार ने कहा कि भारत ही नही विश्व इतिहास की एक बहुत बड़ी घटना इस 22 जनवरी को घट रही है।
Ram Mandir
Ram Mandir Social Media

शिमला, हि. स.। पूर्व मुख्यमंत्री एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री शान्ता कुमार ने कहा कि भारत ही नही विश्व इतिहास की एक बहुत बड़ी घटना इस 22 जनवरी को घट रही है। 500 वर्षों के लम्बे संघर्श, बहुत से लोगों की शहादत और 100 वर्षों की मुकदमेंबाजी के बाद अयोध्या में राम मन्दिर का निर्माण सम्पन्न हो रहा है। इस ऐतिहासिक घटना के साथ पालमपुर का नाम भी ऐतिहासिक हो गया है।

राम मन्दिर निर्माण प्रस्ताव पास करके आन्दोलन किया प्रारम्भ

शान्ता कुमार ने आज एक बयान में कहा कि आज से 35 वर्ष पूर्वं 1989 में इसी पालमपुर में भारतीय जनता पाटी ने पहली बार राम मन्दिर निर्माण में आन्दोलन करने का प्रस्ताव पास किया था। उसके बाद लाल कृष्ण अडवानी ने सोमनाथ से लेकर अयोध्या तक की ऐतिहासिक यात्रा की थी। उसी के बाद राम मन्दिर निमार्ण के लिए पूरे देश में प्रबल संघर्श हुआ और अब राम मन्दिर बन रहा है। इस पूरे इतिहास में पालमपुर का नाम भी महत्वपूर्ण है। क्योंकि भाजपा ने इसी पालमपुर में राम मन्दिर निर्माण प्रस्ताव पास करके आन्दोलन प्रारम्भ किया था।

पालमपुर में राष्ट्रीय कार्य समिति की वह बैठक जून 1989 को हुई

उन्होंने प्रदेश भाजपा अध्यक्ष से आग्रह किया है कि 22 जनवरी को पालमपुर में एक भव्य कार्यक्रम किया जाए। पालमपुर में राष्ट्रीय कार्य समिति की वह बैठक जून 1989 को हुई थी। मैं उस समय प्रदेश भाजपा अध्यक्ष था। कार्य समिति का पूरा प्रबन्ध करने का सौभाग्य मुझे मिला था। पालमपुर के रोटरी भवन में वह ऐतिहासिक बैठक हुई थी। राम मन्दिर निर्माण के महत्वपूर्ण इतिहास में पालमपुर और रोटरी भवन भी ऐतिहासिक बन गये है। 22 जनवरी को जब अयोध्या में राम मन्दिर में प्राण प्रतिष्ठा हो रही हो तो उसी समय पालमपुर में उसी रोटरी भवन में राम भक्तों का एक भव्य कार्यक्रम होना चाहिए।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.