Ayodhya में अतिथि देव भवः, श्रदालुओ के लिए खाने पीने, रहने और दर्शन करने की व्यवस्था करेगी RSS

Ayodhya Ram Mandir: श्रीराम जन्मभूमि मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा के दौरान देशभर से लोग अयोध्या आएंगे। 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा के दिन 10 हजार अति विशिष्ट लोग भी अयोध्या में निवास करेंगे।
Mohan Bhagwat
Mohan Bhagwatraftaar.in

अयोध्या, (हि.स.)। श्रीराम जन्मभूमि मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा के दौरान देशभर से लोग अयोध्या आएंगे। 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा के दिन 10 हजार अति विशिष्ट लोग भी अयोध्या में निवास करेंगे। इस दौरान प्राण प्रतिष्ठा समारोह में हिस्सा लेने आए अतिथियों की सेवा व सत्कार में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक भी लगेंगे। इस दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालु रामलला का दर्शन करने अयोध्या आएंगे।

भण्डारों का संचालन 15 जनवरी से प्रारम्भ हो जायेगा

अयोध्या आने वाला कोई भी श्रद्धालु भूखा न रहे इसके लिए अयोध्या के 51 स्थानों पर भंडारे शुरू होंगे। भण्डारों का संचालन 15 जनवरी से प्रारम्भ हो जायेगा और पूरे फरवरी माह तक चलेंगे। इनके लिए स्थान चिन्हित कर लिये गये हैं। जहां-जहां भंडारे शुरू होंगे वहां पर वितरण एवं स्वच्छता के कार्य में संघ के कार्यकर्ता सहयोग करेंगे। तीर्थक्षेत्रपुरम की व्यवस्था में बड़ी संख्या में संघ के कार्यकर्ता लगे हैं।

अतिथि आगमन से लेकर ठहरने, भोजन व दर्शन आदि तक का प्रबंध स्वयंसेवक करेंगे

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह क्षेत्र सम्पर्क प्रमुख मनोज ने हिन्दुस्थान समाचार को बताया कि प्राण प्रतिष्ठा समारोह से जुड़ी जो भी व्यवस्था है, अतिथि आगमन से लेकर उनके ठहरने, भोजन व दर्शन आदि तक का प्रबंध स्वयंसेवक करेंगे। इसके अलावा अयोध्या में विभिन्न सामाजिक संस्थाएं भी जगह-जगह भंडारा शुरू करेंगी उनका सहयोग भी संघ के स्वयंसेवक करेंगे।

500 संघ कार्यकर्ता अयोध्या में स्वच्छता कार्य में सहयोग करेंगे

संघ के अयोध्या विभाग के सेवा प्रमुख बालेंद्र भूषण सिंह ने हिन्दुस्थान समाचार को बताया कि 500 संघ कार्यकर्ता अयोध्या में स्वच्छता कार्य में सहयोग करेंगे। अभी तक 41 स्थान चिह्नित किए गए हैं जहां पर भंडारे शुरू होंगे। कुछ स्थानों पर भंडारे शुरू हो गए हैं। जहां-जहां भंडारे चलेंगे वहां पर पांच-पांच संघ कार्यकर्ता प्रसाद वितरण एवं स्वच्छता में सहयोग के लिए रहेंगे। यह RSS का बहुत ही सराहनीय कार्य है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करेंwww.raftaar.in

Related Stories

No stories found.