kondagaon-administration-stopped-child-marriage-minor-boy-was-being-married-in-village-chilputi
kondagaon-administration-stopped-child-marriage-minor-boy-was-being-married-in-village-chilputi

कोण्डागांव : प्रशासन ने रोका बाल विवाह, ग्राम चिलपुटी में हो रहा था नाबालिग लड़के का विवाह

कोण्डागांव, 30 जून (हि.स.)। जिला बाल संरक्षण इकाई महिला एवं बाल विकास विभाग एवं पुलिस विभाग के संयुक्त दल द्वारा कार्रवाई करते हुए मंगलवार को ग्राम चिलपुटी में हो रहे बाल विवाह को रोकने की जानकारी बुधवार को एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से दी गई है। विज्ञप्ति में जिला बाल संरक्षण इकाई महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी हेमाराम राणा ने जानकारी दी है कि विकासखण्ड कोण्डागांव के ग्राम चिलपुटी देवडोबरा पारा निवासी बालक उम्र 16 वर्ष का विवाह बालिका उम्र 20 वर्ष निवासी ग्राम सिंगनपुर, चिपावण्ड जिला कोण्डागांव के साथ सम्पन्न होना था। पूर्व में इस आयोजित विवाह को ग्राम के पटवारी, सरपंच, कोटवार, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं अन्य के द्वारा समझाइश देकर रोका गया था, परन्तु 29 जून को यह सूचना मिलने पर कि विवाह को पुनः आयोजित कर सम्पन्न किया जा रहा है। सूचना मिलने पर तत्काल गठित संयुक्त दल द्वारा विवाह स्थल पहुंच कर दस्तावेजों की जांच एवं पूछताछ किया गया, जिसमें वर-वधु के अंकसूची के अवलोकन से वधु की उम्र विवाह योग्य एवं वर की आयु विवाह हेतु निर्धारित आयु से कम पाया गया। चूंकि वर और वधु के बीच रायपुर में अलग-अलग राईस मील में काम करते हुए जान पहचान हुई थी और वे एक दूसरे को पसंद करने लगे थे। इस संबंध में गठित संयुक्त दल द्वारा वर-वधु दोनों पक्षों के सदस्यों एवं उपस्थित ग्रामीणों को बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम के अंतर्गत विवाह को अवैध एवं गैरकानूनी के संबंध में जानकारी देकर समझाईश दी गई और साथ ही पंचनामा तैयार किया गया। इसके बाद ही वर-वधु के संबंधी एवं अभिभावक वर की आयु 21 वर्ष पूरी होने के पश्चात् ही विवाह करने के लिए सहमत हुए। हिन्दुस्थान समाचार/राजीव गुप्ता

Related Stories

No stories found.