ukraine-second-un-relief-convoy-reaches-sumy-barriers-continue-in-mariupol
ukraine-second-un-relief-convoy-reaches-sumy-barriers-continue-in-mariupol

यूक्रेन: यूएन का दूसरा राहत काफ़िला पहुँचा सूमी, मारियूपोल में अवरोध बरक़रार

यूक्रेन में संयुक्त राष्ट्र मानवीय राहत एजेंसियों और साझीदार संगठनों के लिये देश के पूर्वोत्तर में स्थित सूमी शहर में राहत सामग्री पहुँचा पाना सम्भव हुआ है, मगर मारियूपोल में प्रवेश कर पाने की अनुमति अभी नहीं मिल पाई है. मारियूपोल में भीषण बमबारी में बड़ी संख्या में आम नागरिकों के मारे जाने की आशंका है. संयुक्त राष्ट्र प्रवक्ता स्तेफ़ान दुजैरिक ने गुरूवार को न्यूयॉर्क में पत्रकारों को जानकारी देते हुए बताया कि सूमी में राहत सामग्री लेकर आने वाला पहला काफ़िला दो हफ़्ते पहले वहाँ पहुँचा था. Today @UN_Ukraine & partners have delivered supplies for thousands of people in the encircled city of Sumy. But this is not enough. We need to reach the most vulnerable people in #Mariupol, #Kherson and across #Ukraine. My statement: https://t.co/nEUOP30ERf https://t.co/V6TEthkiwW — Osnat Lubrani (@OsnatLubrani) March 31, 2022 जबकि एक अन्य अन्तर-एजेंसी राहत मिशन नज़दीकी शहर ख़ारकीफ़ में इस सप्ताह पहले राहत सामान लेकर आया था. यूएन प्रवक्ता के मुताबिक़, सूमी में गुरूवार को पहुँचने वाले दूसरे राहत काफ़िले में सात ट्रक हैं, जिनमें भोजन, दवा और स्वच्छता सामग्री भेजी गई हैं. यूक्रेन में रैड क्रॉस सोसाइटी और उसके स्थानीय साझीदारों की देखरेख में आने वाले दिनों में इनका वितरण किया जाएगा. मानवीय राहत के तहत, विश्व खाद्य कार्यक्रम द्वारा छह हज़ार लोगों के लिये भोजन, ग़ैरसरकारी संगठन ‘People in Need’ के द्वारा छह हज़ार लोगों के लिये स्वच्छता उत्पाद, और यूएन शरणार्थी एजेंसी की ओर से कम्बल, सोलर लैम्ब समेत अन्य सामान हैं. बताया गया है कि अगले तीन महीनों के लिये, दस हज़ार से अधिक लोगों के लिये अति महत्वपूर्ण चिकित्सा आपूर्ति भी रवाना की गई है. यूक्रेन के लिये मानवीय राहत समन्वयक ओसनात लुब्रानी ने एक बयान जारी करके बताया कि यूक्रेन और रूस के साथ मानवीय अधिसूचना प्रणाली के तहत, काफ़िले के लिये सूमी सुरक्षित पहुँच पाना सम्भव हुआ है. मगर उन्होंने ध्यान दिलाया कि यह पर्याप्त नहीं है, और देश के हर इलाक़े में सर्वाधिक ज़रूरतमन्दों तक मदद सुनिश्चित करने के लिये यूएन का वहाँ पहुँचना आवश्यक है. मारियूपोल पहुँचना कठिन यूएन प्रवक्ता स्तेफ़ान दुजैरिक ने बताया कि मारियूपोल, ख़ेरसॉन और चेरनिहीफ़ में यूएन और साझीदार संगठनों के लिये पहुँचना सम्भव नहीं हो पाया है. इस सिलसिले में युद्धरत पक्षों के साथ गहन प्रयास और बातचीत की गई है. उन्होंने कहा कि हम दोनों युद्धरत पक्षों के साथ अपना सम्वाद जारी रखेंगे, जिसका उद्देश्य तत्काल और सतत रूप से अति महत्वपूर्ण मानवीय सहायता को उन लोगों तक राहत पहुँचाना है जोकि इस युद्ध से सर्वाधिक प्रभावित हुए हैं. यौन एवं प्रजनन स्वास्थ्य मामलों की एजेंसी (UNFPA) ने बताया है कि तीन हज़ार किटें रवाना की गई हैं, जिनमें साबुन, अधोवस्त्र और अन्य बुनियादी सामान हैं. यूएन प्रवासन एजेंसी के भण्डारण केंद्र में 20 हज़ार, पोषक बिस्किट की खेप पहुँची है, जिन्हें पूर्वी यूक्रेन भेजा जाएगा और ज़रूरतमन्दों, विशेष रूप से बच्चों, गर्भवती और स्तनपान करा रही महिलाओं को मुहैया कराया जाएगा. स्तेफ़ान दुजैरिक का कहना है कि यूक्रेन संकट के मद्देनज़र जारी की गई मानवीय राहत अपील में पिछले कुछ दिनों में आठ करोड़ डॉलर की रक़म प्राप्त हुई है. इसे मिलाकर, एक अरब 10 करोड़ डॉलर की कुल सहायता अपील में से 51 प्रतिशत रक़म का प्रबन्ध हो चुका है. --संयुक्त राष्ट्र समाचार/UN News

Related Stories

No stories found.