ukraine-oxygen-shortage-threatens-lives
ukraine-oxygen-shortage-threatens-lives

यूक्रेन: ऑक्सीजन की क़िल्लत से ज़िन्दगियों पर ख़तरा

यूक्रेन संकट के सातवें दिन बुधवार को, संयुक्त राष्ट्र के नेतृत्व में देश के स्वास्थ्यकर्मियों को सहायता पहुँचाने के प्रयास, जारी रहने के साथ-साथ तेज़ भी हुए हैं जिनके तहत जीनवरक्षक सामग्री की पहले खेप पड़ोसी देश पोलैण्ड में पहुँच रही है. विश्व स्वास्थ्य संगठन को, डायबटीज़ जैसी दीर्घकालिक बीमारियों का इलाज करने वाली दवाइयों की क़िल्लत होने के बारे में आरम्भिक चिन्ताओं के बीच बुधवार को, ये चेतावनी जारी करनी पड़ी कि अगर ऑक्सीजन व अन्य आपात देखभाल नहीं उपलब्ध हुए तो, “लोगों की मृत्यु” होगी. "Coupled with low vaccination coverage, this increases the risk of large numbers of people developing severe disease"-@DrTedros #COVID19 #Ukraine https://t.co/PZlVEIuNcl — World Health Organization (WHO) (@WHO) March 2, 2022 हृदय विदारक दृश्य यूएन स्वास्थ्य एजेंसी के आपात कार्यक्रम के मुखिया डॉक्टर माइक रायन ने कहा है, “हम में से कुछ लोग इस स्थिति में बहुत लम्बे समय से हैं और हमारे भीतर उच्च स्तर की सहनशीलता विकसित हो गई है, मगर जब हम नर्सों को भूमिगत स्थलों में बनाए गए अस्थाई अस्तपालों में शिशुओं को साँस लेने में मदद करने की कोशिश करते हए देखते हैं, तो हममें से बहुत मज़बूत लोग भी, ये देखने में घबराते हैं.” “और जो हीरो उस स्थिति में, धरातल पर मौजूद हैं, उनमें उन भूमिगत स्थलों पर मुख्य रूप से ऐसी महिलाएँ हैं जो उन शिशुओं का ख़याल रख रही हैं.” विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुखिया डॉक्टर टैड्रॉस ऐडहेनॉम घेबरेयेसस ने जिनीवा में एक प्रैस वार्ता में कहा कि आपात स्थित में काम आने वाली लगभग 36 टन चिकित्सा सामग्री, दुबई स्थित हब से रवाना की जा रही है, जो लगभग एक हज़ार मरीज़ों की ज़रूरतें पूरी करने के लिये पर्याप्त होगी. उन्होंने बताया कि लगभग डेढ़ लाख लोगों की चिकित्सा ज़रूरतों के लिये पर्याप्त स्वास्थ्य सामग्री भी जल्द ही उपलब्ध कराई जाएगी. यूएन स्वास्थ्य एजेंसी, पड़ोसी देशों से, यूक्रेन में ज़रूरत वाले स्थानों पर ऑक्सीजन आपूर्ति कराने के लिये भी आशान्वित है. पहुँच से बाहर विश्व स्वास्थ्य संगठन ने, यूक्रेन में मौजूदा संघर्ष शुरू होने से पहले, वहाँ 23 अस्पतालों में आपात चिकित्सा सामग्री मुहैया कराई थी, मगर एजेंसी के मुखिया ने आगाह करते हुए ये भी बताया कि राजधानी कीयेफ़ में पहले भेजी गई चिकित्सा सामग्री, “फ़िलहाल पहुँच में नहीं है”. डॉक्टर टैड्रॉस ने कहा कि यूक्रेन में कम से कम तीन ऑक्सीजन संयंत्र इस समय बन्द हैं. संगठन के प्रमुख डॉक्टर टैड्रॉस ने कहा कि एक ऐसा सुरक्षा गलियारा बनाए जाने की तत्काल ज़रूरत है जिसके ज़रिये मानवीय सहायतागर्मी और सामान की आपूर्ति, ज़रूरतमन्द लोगों तक, सुरक्षित तरीक़े से पहुँच सकें. उन्होंने गत सप्ताह गुरूवार (24 फ़रवरी) को, रूसी सैन्य कार्रवाई शुरू होने के बाद से, अस्पतालों व स्वास्थ्य ढाँचे पर अनेक हमलों की अपुष्ट ख़बरों पर चिन्ता भी जताई है. उन्होंने कहा, “स्वास्थ्य ढाँचों पर हमले, अन्तरराष्ट्रीय मानवीय सहायता क़ानून का उल्लंघन हैं.” उन्होंने स्वास्थ्य देखभाल, स्वास्थ्यकर्मियों, मरीज़ों, ज़रूरी सामग्रियों, परिवहन और सुविधाओं की निष्पक्षता क़ायम रखने जाने पर भी ज़ोर दिया. कोविड में बढ़ोत्तरी यूएन स्वास्थ्य एजेंसी प्रमुख डॉक्टर टैड्रॉस ने, संघर्ष से बचकर सुरक्षित स्थानों की तरफ़ जाने वाले यूक्रेनी लोगों की बढ़ती संख्या के बीच बताया कि ये हालात कोविड-19 का संक्रमण बढ़ने के लिये बहुत अनुकूल हैं, यूक्रेन के भीतर व इसकी सीमाओं से परे, हर जगह. डॉक्टर माइक रायन ने भी कहा कि कोरोनावायरस के फैलाव को रोकने के प्रयास प्राथमिकता पर रहने चाहिये, जिनमें यथासम्भव टीकाकरण सुविधा के साथ-साथ, अन्य तरह की चिकित्सा सहायता जारी रखा जाना भी शामिल है. --संयुक्त राष्ट्र समाचार/UN News

Related Stories

No stories found.