Pakistan Inflation: पाकिस्तान में महंगाई की मार, गैस सिलेंडर 3 हजार रुपए, पानी-बिजली के लिए तरस रहे लोग

Pakistan News: पड़ोसी देश पाकिस्तान में बेहिसाब महंगाई बढ़ी है। आर्थिक संकटों ने आम लोगों की कमर तोड़ दी है। पाकिस्तान सरकार ने एक सितंबर को एलपीजी गैस सिलेंडर के दाम बढ़ाने का निर्णय लिया था।
पाकिस्तान में बढ़ी महंगाई।
पाकिस्तान में बढ़ी महंगाई। सोशल मीडिया।

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। पड़ोसी देश पाकिस्तान में बेहिसाब महंगाई बढ़ी है। आर्थिक संकटों ने आम लोगों की कमर तोड़ दी है। पाकिस्तान सरकार ने एक सितंबर को एलपीजी गैस सिलेंडर के दाम बढ़ाने का निर्णय लिया था। पाकिस्तान की ऑयल एंड गैस रेगुलेटरी अथॉरिटी (OGRA) ने एलपीजी की कीमत 246.16 रुपए बढ़ाई थी। इसके बाद एक एलपीजी सिलेंडर 3079.64 रुपए में मिल रहा है।

घर, पानी और बिजली की कीमत में 29.70 प्रतिशत इजाफा

पाकिस्तान की कार्यवाहक सरकार ने जुलाई से शुरू आईएमएफ के बेलआउट पैकेज को पाने के लिए सितंबर में पेट्रोल-डीजल और एलपीजी के दाम बढ़ाने का फैसला लिया था। इसके बाद देश में परिवहन की कीमत में साल-दर-साल 31.26 प्रतिशत की बढ़त हुई है। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार खाद्य महंगाई दर में साल-दर-साल के हिसाब से 33.11 प्रतिशत और घर, पानी और बिजली की कीमत में 29.70 प्रतिशत इजाफा हुआ है।

महंगाई दर बढ़कर 31.44 प्रतिशत

सितंबर में अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (International Monetary Fund) के दबाव में कार्यवाहक सरकार ने पेट्रोल-डीजल के दाम में जबरदस्त इजाफा किया था। सरकार ने 3 अरब डॉलर के बेल आउट पैकेज को पाने के लिए यह कदम उठाया था। इस निर्णय के बाद मुद्रास्फीति दर में जबरदस्त बढ़ोतरी हुई है। सितंबर में महंगाई दर 31.44 प्रतिशत तक पहुंची है।

अगस्त में महंगाई दर थी 27.40 प्रतिशत

पाकिस्तान ब्यूरो ऑफ स्टैटिक्स के आंकड़ों के मुताबिक महंगाई के यह आंकड़े ब्लूमबर्ग के आंकड़ों 30.94 फीसदी से थोड़े अधिक हैं। अगस्त में देश में महंगाई दर 27.40 प्रतिशत थी। एक्सपर्ट्स को उम्मीद थी कि सितंबर में महंगाई दर में बढ़ोतरी दर्ज हो सकती है। इसके पीछे मुख्य कारण पेट्रोल-डीजल और एलपीजी के दाम में इजाफा ही था।

30 अक्टूबर को होनी है सेंट्रल बैंक की बैठक

30 अक्टूबर को पाकिस्तान के सेंट्रल बैंक की बैठक होने वाली है। इसमें ब्याज दरों की समीक्षा की जाएगी। ऐसे में बैंक महंगाई पर लगाम लगाने के लिए जरूरी कदम उठा सकता है। केंद्रीय बैंक को उम्मीद है कि ईंधन की कीमतों में हो रही बढ़ोतरी के कारण जून क देश में महंगाई दर में इजाफा होता रहेगा। ब्लूमबर्ग के अनुसार इस साल देश की औसत मूल्य वृद्धि दर 20-22 प्रतिशत रह सकती है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.