PM Modi के सपोर्ट में Bollywood Stars और Cricketers, कोई मालदीप के मंत्रियों पर भड़का, किसी ने कही बड़ी खास बात

Maldives Controversy: नए साल पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लक्षद्वीप की यात्रा की तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर कर इसकी सुंदरता की तारीफ की थी। तब से दुनियाभर में इसकी बात होने लगी है।
पीएम मोदी के समर्थन में आए सेलेब्स।
पीएम मोदी के समर्थन में आए सेलेब्स।रफ्तार।

नई दिल्ली, रफ्तार। नए साल पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लक्षद्वीप की यात्रा की तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर कर इसकी सुंदरता की तारीफ की थी। तब से लक्षद्वीप ट्रेंड कर रहा और दुनियाभर में इसकी बात होने लगी है। मोदी की यात्रा पर सियासत भी शुरू हो गई और मालदीव नेताओं ने भारत को लेकर विवादित टिप्पणियां कीं। इसके बाद मामला तूल पकड़ा और लोगों ने मालदीव बायकॉट की मुहिम चला दी। अब बॉलीवुड स्टार्स और पूर्व भारतीय क्रिकेटर सुरेश रैना, इरफान पठान, हार्दिक पंड्या और शिखर धवन समेत कई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपोर्ट में उतर आए हैं। आप आपको बता रहे हैं कि इन सेलेब्स ने क्या प्रतिक्रिया दी है....

सलमान खान का ट्वीट

सलमान खान ने ट्वीट किया-'लक्षद्वीप के सुंदर, स्वच्छ और आश्चर्यजनक समुद्र तटों पर हमारे माननीय पीएम नरेंद्र भाई मोदी को देखना बहुत अच्छा है। सबसे अच्छी बात ये है कि ये द्वीप हमारे भारत में हैं।

अक्षय कुमार की प्रतिक्रिया

अक्षय कुमार ने ट्वीट कर लिखा-'मालदीव्स के कई मशहूर पब्लिक फिगर ओर से कमेंट आए हैं जो भारतीयों पर बेहद ही घृणा और नस्लवादी हैं। मैं बहुत हैरान हैं कि वो ऐसा कैसे कर सकते हैं। वो भी उस देश के साथ, जो यहां से सबसे ज्यादा संख्या में टूरिस्ट वहां भेजता है। हम पड़ोसियों के साथ अच्छे हैं, लेकिन हमें ऐसी अकारण नफरत क्यों बर्दाश्त करनी चाहिए? मैंने कई बार मालदीव का दौरा किया और हमेशा इसकी प्रशंसा की है, लेकिन गरिम पहले है। आइए, हम भारतीय द्वीपों की खोज करने का निर्णय लें और अपने पर्यटन का समर्थन करें।

कंगना रनौत भड़कीं

कंगना रनौत ने ट्वीट किया-'गंध? स्थायी गंध? क्या! ये एक ही समुदाय से होने के बावजूद बड़े पैमाने पर मुस्लिम भय से पीड़ित हैं। लक्षद्वीप में 98 फीसदी मुस्लिम आबादी है। मालदीव की प्रमुख हस्ती द्वारा उन्हें बदबूदार कहना... नस्लवादी और अज्ञानता को दिखाता है। लक्षद्वीप की पूरी आबादी मुश्किल से 60 हजार लोगों की है, जिसका मतलब है कि ये लगभग अछूता, अज्ञात द्वीप है। इतने घटिया और अभद्र नस्लवादी होने के लिए आपको शर्म आनी चाहिए।

जॉन अब्राहम ने किया ट्वीट

जॉन अब्राहम ने ट्वीट कर लिखा-अद्भुत भारतीय आतिथ्य, अतिथि देवो भवः के विचार और विशाल समुद्री जीवन की खोज के साथ, सही मायने में लक्षद्वीप जाने लायक जगह है।

श्रद्धा कपूर का ट्वीट

श्रद्धा कपूर ने ट्वीट किया-ये सभी और फोटोज और मीम्स मुझे बहुत ज्यादा एक्साइट कर रहे हैं। लक्षद्वीप में बेहद खूबसूरत बीच और कॉस्टलाइंस हैं, जो लोकल कल्चर को दर्शाते हैं। मैं एक छुट्टी लेने के लिए बेचैन हो रही हूं तो क्यों नहीं, इस साल इंडियन आइलैंड को एक्सप्लोर किया जाए।

मधुर भंडारकर ने लिखा-

डायरेक्टर मधुर भंडारकर ने सोशल मीडिया पर लिखा-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जरिए लक्षद्वीप के मनमोहक आकर्षण की खोज। उनकी यात्रा न मुझे पूरी तरह मंत्रमुग्ध किया है। इसे छिपे रत्न को अपनी यात्रा सूची में सबसे ऊपर जोड़ रहा हूं।

सुरेश रैना-मालदीप की अर्थव्यवस्था में भारतीयों की काफी अहम भूमिका

क्रिकेटर सुरेश रैना ने एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर लिखा-'मालदीव की प्रमुख हस्तियों ने जो टिप्पणी की है, उसे मैंने भी देखा है। इसमें भारतीयों के प्रति नफरत एवं नस्लवादी टिप्पणी की गई। यह देखना निराशाजनक है। रैना ने बताया कि मालदीप की अर्थव्यवस्था में भारतीयों की भी काफी अहम भूमिका है। आगे लिखा-खासकर यह देखते हुए कि भारत उनकी (मालदीव) अर्थव्यवस्था, क्राइसिस मैनेजमेंट और अन्य पहलुओं पर अहम भूमिका निभाता है। रैना ने लिखा- कई बार मालदीप की दौरा करने और वहां की सुंदरता की तारीफ करने के बजाए मेरा मानना है कि हमें अपने आत्मसम्मान को प्राथमिकता देना चाहिए। इन घटनाओं के बाद अब हमें एकजुट होना चाहिए और अपने एक्सप्लोर इंडियन आइलैंड्स (#ExploreIndianIslands) को चुनना और सपोर्ट करना चाहिए।

हार्दिक पांड्या बोले-बहुत दुख हुआ

टीम इंडिया के ऑलराउंडर खिलाड़ी हार्दिक पंड्या ने कहा,भारत के बारे में जो कहा जा रहा है, उसे सुनकर बेहद दुख हुआ। लक्षद्वीप अपने भव्य समुद्री जीवन और सुंदर समुद्र तटों के कारण आदर्श स्थान है। मुझे निश्चित रूप से अपनी अगली छुट्टियों में वहां जाना चाहिए।

नकारात्मक बातें सुनना काफी निराशाजनक : इरफान पठान

बता दें मालदीव के मंत्री जाहिद रमीज ने भारतीय होटलों को भी खराब कहा था। इसके जवाब में पूर्व भारतीय क्रिकेटर इरफान पठान ने कहा- मैं 15 साल की उम्र से विदेश की यात्रा कर रहा हूं। मैं जिस भी नए देश के दौरे पर गया हूं, वहां की सर्विस देखने के बाद मेरा भारतीय होटलर्स एवं टूरिज्म की असाधारण सेवा पर विश्वास मजबूत होता गया है। हर एक देश की संस्कृति का सम्मान करते हुए नकारात्मक बातें सुनना काफी निराशाजनक है।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.