WEF 2024: अमीरी-गरीबी के बीच बढ़ी खाई, 4 साल में 5 अरब लोग हुए गरीब, कुछ लोग हर घंटे 100 करोड़ से अधिक कमाए

Oxfam International Record: कुछ वर्षों में पूरी दुनिया में आर्थिक असमानता तेजी से बढ़ी है। ऑक्सफेम इंटरनेशनल ने अमीरी और गरीबी के बीच बढ़ी खाई पर रिपोर्ट जारी की है।
अमीरों और गरीबों के बीच की खाई बढ़ी।
अमीरों और गरीबों के बीच की खाई बढ़ी।रफ्तार।

नई दिल्ली, रफ्तार। कुछ वर्षों में पूरी दुनिया में आर्थिक असमानता तेजी से बढ़ी है। ऑक्सफेम इंटरनेशनल ने अमीरी और गरीबी के बीच बढ़ी खाई पर रिपोर्ट जारी की है। रिपोर्ट से स्पष्ट हुआ है कि एक ओर गिने-चुने लोगों को बेतहाशा कमाई हो रही, दूसरी ओर अरबों लोग गरीब हो रहे हैं। ऑक्सफेम इंटरनेशनल ने स्विट्जरलैंड के दावोस में दुनिया के सबसे प्रभावशाली लोगों की होने वाली जुटान से ऐन पहले यह रिपोर्ट जारी की है। स्विट्जरलैंड के फेमस स्की डेस्टिनेशन दावोस में हर साल जनवरी में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम का आयोजन किया जाता है। इसमें तमाम राष्ट्राध्यक्ष, बड़े राजनेता और कारोबारी घरानों के दिग्गज जमा होते हैं।

ऐसी बढ़ी आर्थिक असमानता

ऑक्सफेम के अनुसार आर्थिक असमानता के लिहाज से पिछले कुछ वर्ष काफी खराब रहे। चार वर्षों में कोरोना महामारी, युद्ध और महंगाई जैसे फैक्टर ने अरबों लोगों को गरीब बना दिया है। 2020 के बाद अब तक दुनिया में 5 अरब लोग गरीब हुए हैं। वहीं, कुछ गिने-चुने लोगों की दौलत रॉकेट की रफ्तार से बढ़ी है।

टॉप-5 अमीरों की इतनी बढ़ी दौलत

इनइक्विलिटी इंक नाम से जारी रिपोर्ट के अनुसार दुनिया के शीर्ष 5 अमीरों की दौलत 4 साल में 869 बिलियन डॉलर बढ़ गई है। मतलब चार वर्षों के दौरान पांच सबसे अमीर लोगों को हर घंटे 14 मिलियन डॉलर कमाई होती है। भारतीय करेंसी में रकम को बदलें तो यह 116 करोड़ रुपए होता है। मतलब दुनिया के 5 सबसे अमीर लोगों को 4 साल के दौरान हर घंटे 100 करोड़ रुपए से ज्यादा कमाई हुई।

ये हैं 5 सबसे अमीर

फोर्ब्स की रियलटाइम बिलेनियर्स लिस्ट के अनुसार दुनिया के सबसे अमीर इंसान एलन मस्क हैं। इनकी मौजूदा नेटवर्थ 230 बिलियन डॉलर है। दूसरे नंबर पर 182.4 बिलियन डॉलर के साथ बर्नार्ड अर्नाल्ट हैं। अमेजन के जेफ बेजोस 176.9 बिलियन डॉलर की दौलत के साथ तीसरे स्थान पर हैं। 135.2 बिलियन डॉलर की नेटवर्थ के साथ लैरी एलिसन चौथे स्थान और 132.3 बिलियन डॉलर के साथ मार्क जुकरबर्ग पांचवें स्थान पर हैं।

229 साल तक गरीबी नहीं मिटेगी

सभी अरबपतियों की नेटवर्थ मिला लें तो इसमें 4 साल में कई बड़े देशों की जीडीपी से ज्यादा ग्रोथ आई है। रिपोर्ट के अनुसार दुनिया के अरबपतियों की सम्मिलित दौलत 4 साल में 3.3 ट्रिलियन डॉलर बढ़ी है। दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था की भारत की जीडीपी 3.5 ट्रिलियन डॉलर है। ऑक्सफेम ने आशंका जताई है कि हालात ऐसे रहे तो जल्द दुनिया को एक ट्रिलियन डॉलर की नेटवर्थ वाला पहला बिलेनियर मिल जाएगा। अगले 229 साल तक दुनिया से गरीबी नहीं मिटाई जा सकेगी।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.