HBD Special: पॉप सिंगिंग को बप्पी दा ने दी नई दिशा, गोल्ड प्रेम देख पत्नी ने किया था सोने का चाय सेट गिफ्ट

Bappi Da Birthday: बॉलीवुड के मशहूर पॉप सिंगर एवं संगीतकार बप्पी लहरी का आज जयंती है। इनका जन्म 27 नवंबर 1952 में पश्चिम बंगाल की जलपाईगुड़ी में हुआ था।
बप्पी लहरी।
बप्पी लहरी। bappilahiri_official_ इंस्टाग्राम अकाउंट।

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। बॉलीवुड के मशहूर पॉप सिंगर एवं संगीतकार बप्पी लहरी का आज जयंती है। इनका जन्म 27 नवंबर 1952 में पश्चिम बंगाल की जलपाईगुड़ी में हुआ था। वो इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन 80 के दशक में इंडस्ट्री में डेब्यू करने वाले बप्पी ने लंबे समय तक बॉलीवुड पर राज किया। उनके गानों ने बॉलीवुड में पॉप सिंगिंग को नई दिशा दी। उनके चार्टबस्टर्स ने फैंस के बीच खूब धूम मचाई। बप्पी को उनके झूम कर उठा देने वाले गानों के लिए जाना गया, वहीं उनका एक और अंदाज खूब चर्चित रहा। उनका 'सोने के गहनों के प्रति गहरा प्यार'। डिस्को किंग ही नहीं बप्पी को 'गोल्ड किंग' नाम से भी जाना जाता था।

खूब सोना पहनते थे बप्पी

यह बात किसी से छुपी नहीं है कि बप्पी दा को सोना पहनना कितना अच्छा लगता था। गानों के अलावा उन्हें सोने के गहने पहनने और गोल्ड प्रेम के लिए जाना जाता था। बप्पी इकलौते ऐसे सिंगर थे, जो ढेर सारा सोना पहने नजर आते थे। गोल्ड के साथ उनके अच्छे-अच्छे कपड़ों को पहनने का भी खूब शौक रहा। उनके स्टाइल को देख लोग उन्हें आइकॉन कहने लगे।

इनकी वजह से बने थे गोल्ड प्रेमी

गोल्ड प्रेम को लेकर बप्पी दा ने इंटरव्यू में कहा था-एक हॉलीवुड आर्टिस्ट की वजह से उन्होंने सोना पहनना शुरू किया था। मैं हॉलीवुड सिंगर एल्विस प्रेस्ली को काफी पसंद करता था। वो हमेशा गले में सोने की चेन पहने रहते थे। मुझे उनका ये अंदाज खूब पसंद आता था, जिसके बाद उन्होंने मन बनाया कि वो भी सफल सिंगर बनेंगे और उतना सोना पहनेंगे जितना वो सफल होंगे।

बप्पी लहरी के पास था इतना सोना

बप्पी दा के पास 754 ग्राम सोना और 4.62 ग्राम चांदी थी। 2014 में बप्‍पी लाहिड़ी ने चुनाव लड़ा था। उस दौरान उन्होंने यह जानकारी दी थी। बप्‍पी का गोल्ड प्रेम इतना ज्यादा था कि 2021 में धनतेरस पर उनकी पत्नी ने उन्हें सोने का चाय सेट गिफ्ट किया था। बप्पी दा सोने को बहुत संभाल कर रखते थे। वर्षों से चेन, पेंडेंट, अंगूठियां, कंगन, गणेश की मूर्तियां, हीरे से जड़े ब्रेसलेट, यहां तक ​​कि सोने के फ्रेम और सोने के कफलिंक जमा किए थे। जो कि अब उनके निधन बाद बंद अलमारी के अंदर रखे हैं और अब ये उनके परिवार की विरासत का हिस्सा हैं।

बप्पी दा के गानें

बप्पी का इंडस्ट्री में 48 साल का कॅरियर था। उन्होंने करीब 5000 गाने कंपोज किए। उन्होंने हिंदी, बंगाली, तमिल, तेलुगु, मलयालम, कन्नड़, गुजराती, मराठी, पंजाबी, उड़िया, भोजपुरी, आसमी भाषाओं के साथ बांग्लादेश की फिल्मों और अंग्रेजी गानों को भी कंपोज किया था। अब उनके जाने से गानों में वो डिस्को के तड़के की कमी जरूर खलता है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

रफ़्तार के WhatsApp Channel को सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें Raftaar WhatsApp

Telegram Channel को सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें Raftaar Telegram

Related Stories

No stories found.