72 Hoorain Release: आंतकवाद के चेहरे को बेनकाब करती 72 हूर्रे, IMDb की मोस्ट अवेटेड मूवीज की लिस्ट में शामिल

आतंकवाद पर आधारित फिल्म 72 हूर्रे शुक्रवार को सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है। इस फिल्म में आंतकवाद की भयावह योजनाओं को दिखाया गया है।
72 Hoorain
72 HoorainSocial Media

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। आतंकवाद पर आधारित फिल्म 72 हूर्रे शुक्रवार को सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है। इस फिल्म में आंतकवाद की भयावह योजनाओं को दिखाया गया है। कैसे वो लोगों के दिमाग से खेलते है और उनका ब्रेनवॉश करते है। फिर उन्हे मानव बम में बदल दिया जाता है।

72 Hoorain
72 HoorainSocial Media

दो आत्मघाती हमलावर मौत के बाद जन्नत की तलाश में घूमते है

फिल्म में दिखाया गया है कि कैसे उकसाए गए और गुमराह किए गए दो आत्मघाती हमलावर मौत के बाद जन्नत और 72 नायकों की तलाश में इधर-उधर घूमते हैं। जिहाद के नाम पर युवाओं को गर्त में धकेलने के काले सच से उजागर किया गया है और लोगों की कड़वी सच्चाई ये रूबरू कराया गया है। फिल्म में कॉमेडी और रोमांच देखने को भरपूर मिलेगा। इस फिल्म को देखने के साथ ही आप अंदर तक चौंक जाएंगे।

72 Hoorain
72 HoorainSocial Media

कई भाषाओं में हुई रिलीज

यह फिल्म हिंदी-अंग्रेजी के अलावा तमिल, तेलुगु, बंगाली, भोजपुरी, कन्नड़, कश्मीरी, मलयालम, मराठी और पंजाबी में भी रिलीज हुई है। इस फिल्म का निर्देशन संजय पूरन सिंह चौहान ने किया है। फिल्म रिलीज के पहले टाइटल से लेकर टीजर तक विवाद खड़ा हो गया था। ऐसा कहा जा रहा है कि फिल्म किसी एक खास समुदाय की धार्मिक संवेदनाओं को ठेस पहुंचाती है। हालांकि फिल्म के निर्देशक कह रहे थे कि उनका विषय कट्टरपंथी सोच है धर्म नहीं। द केरल स्टोरी के बाद 72 हूर्रे आतंकवाद पर बनी दूसरी विवादास्पद फिल्म है।

फिल्म की कहानी

अनिल पांडे द्वारा लिखित यह कहानी हाकीम (पवन मल्होत्रा) और साकिब (आमिर बशीर) नाम के दो गुमराह युवकों के पछतावे को पर्दे पर दिखाती है। किसी कट्टरपंथी की सलाह पर वे आत्मघाती हमलावर बन जाते हैं। समुद्र के रास्ते वो मुंबई में घुस जाते है औऱ वहां पर आत्मघाती हमला करते है। ये वहीं दोषी मौलाना है जिसने उसे लालच दिया था कि अगर वह ऐसा करेगा तो जिहाद के बाद जन्नत जाएगा तो वहां उसका खूब स्वागत किया जाएगा और उसे 72 घंटे की सजा मिलेगी। इस दौरान देवदूत उनकी परछाई बनकर भटकेंगे, लेकिन सच्चाई इसके ठीक उलट है। जब दोनों मरते हैं तो उनकी आत्माएं दूसरी दुनिया में होते हैं। वे जानते हैं कि वे किसी लाश पर आंसू भी नहीं बहा सकते। उनका मानना ​​है कि अगर उनका अंतिम संस्कार पूरे सम्मान के साथ किया जाए तो जन्नत के दरवाजे खुल जाएंगे। अब 169 दिन बीत चुके हैं. दर्शकों का कहना है कि आगे जो होता है वह आंखें खोल देने वाला है।

72 Hoorain
72 HoorainSocial Media

इनका जीवन 72 घंटे का होता है

फिल्म में अधिकांश ब्लैक एंड व्हाइट रंग का यूज किया गया है। फिल्म को रियलिस्टिक लुक देने के लिए वीएफएक्स का भी इस्तेमाल किया गया है। पवन मल्होत्रा ​​और आमिर बशीर ने भटकती आत्माओं का किरदार शानदार ढंग से निभाया है। इनका जीवन 72 घंटे का होता है। इस फिल्म को लेकर फैंस की उत्सुकता इतनी है कि यह IMDb की मोस्ट अवेटेड मूवीज की लिस्ट में टॉप पर है। इस फिल्म की व्यूअरशिप 24.7% है. क्या निर्देशक संजय और अशोक पंडित जैसे सह-निर्माताओं की कोशिश पर्दे पर असर डाल पाएंगी? यह जानना दिलचस्प है कि फिल्मों में रंगों का उपयोग कैसे किया जाता है और किस तरह की सोच को दर्शाया जाता है, लेकिन क्या फिल्म निर्माता फिल्म देखने वालों को समझाने में सक्षम होंगे?

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.