Iran-Israel Tension: भारत और ईरान में किसके पास है कितनी मिलिट्री पावर? दोनों देशों में कहां खड़ा है भारत!

इजराइल पर ईराक के हमले ने बेशक दुनिया को हिला दिया हो। लेकिन भारतीय सेना के सामने ईरान की सेना कमजोर पड़ती है। फिर चाहे वो जल सेना हो या वायु सेना। आइये जानते है कौन कितने पानी में।
Indian Warforce
Indian WarforceAirforce

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। इजरायल पर मिसाइल और ड्रोन से हमला बोल बेशक ईरान ने दुनियाभर में अपनी सैन्य ताकत दिखाई है। 13 अप्रैल को ईरान के धमाकों से पूरा इजरायल गूंज उठा था। इसके बाद से सारी दुनिया इस इंतजार में है कि इजरायल हमले का किस तरह बदला लेगा। लेकिन इस बीच भारत की सैन्य ताकत को कम नहीं आंकना चाहिए।

भारत की तुलना में ईरान की सैन्य ताकत कमजोर

सैन्य ताकत की बात करें तो ईरान की वर्ल्ड रैंकिंग में उसकी मिलिट्री 14वें नंबर पर है और इजरायल 17वें स्थान पर है। हालांकि, भारत की तुलना में ईरान और इजरायल दोनों ही बेहद कमजोर है। ग्लोबल फायर पावर की 145 देशों की रैंकिंग में भारत के पास दुनियाभर की चौथी सबसे ताकतवर सेना है। मैनपावर, रक्षा बजट, हथियार और मिसाइलों हर तरीके से भारत की सेना ताकतवर है।

भारतीय रक्षा बजट

भारत का रक्षा बजट ईरान के बजट से तीन गुना ज्यादा है। भारत ने 2024-25 के लिए 75 बिलियन डॉलर का रक्षा बजट रखा है, जो पिछले साल की तुलना में 3.4 फीसदी अधिक है। वहीं, ईरान का रक्षा बजट 25 बिलियन डॉलर है।

सैन्य कर्मी

सैन्य कर्मियों की बात करें तो भारत के पास ईरान से करीब दोगुने सैन्य कर्मी हैं। उसके पास 14 लाख एक्टिव मिलिट्री पर्सनल हैं, जबकि आठ लाख रिजर्व पर्सनल हैं। वहीं, ईरान के पास सिर्फ 6 लाख 10 हजार एक्टिव और 3 लाख 50 हजार रिजर्व मिलिट्री पर्सनल हैं।

वायु सेना

भारत की वायु सेना के पास 2 हजार 263 एयरक्राफ्ट हैं, जबकि ईरान के पास 972 एयरक्राफ्ट हैं। ईरानी वायुसेना में एफ-14 टॉमकैट, मिग-29, चेंगदू जे -7 और एफ-5 टाइगर II हैं. वहीं, भारतीय सेना के प्रमुख लड़ाकू विमानों में मिग-29, मिग-21, कामोव Ka-27, सुखोई Su-30MKI, मिराज-2000, एचएएल तेजस, मिग-29 के और राफेल हैं।

Indian AIr Force
Indian AIr ForceFighter Plane

नौसैनिक हथियार

भारतीय नौसेना के पास 267 नौसैनिक हथियार हैं, जिनमें एयरक्राफ्ट कैरियर, युद्धपोत और सबमरीन समेत अलग-अलग तरह के हथियार शामिल हैं। भारतीय सेना के पास कलवरी, सिंधुघोष, शिशुमार और अरिहंत सबमरीन हैं। उसके पास शिवालिक, तलवार, ब्रह्मपुत्र और गोदावरी प्रमुख युद्धपोत हैं। वहीं, ईरान के पास 272 नौसैनिक हथियार हैं, लेकिन उसके पास कोई एयरक्राफ्ट कैरियर नहीं है. उसके पास सबमरीन और युद्धपोत हैं। ईरानी नौसेना के पास किलो, फतेह, नहांग और गादिर प्रमुख सबमरीन हैं और अलवंद और मोद्ग युद्धपोत हैं।

परमाणु ताकत

ईरान के पास कोई परमाणु हथियार नहीं है, लेकिन वह तेजी से यूरेनियम का भंडार बढ़ा रहा है। यूरेनियम परमाणु बम में चेन विस्फोट का काम करता है इसलिए इजरायल और अमेरिका समेत कई देश इस पर आपत्ति जताते रहे हैं और उनका कहना है कि ईरान परमाणु हथियार बनाने के लिए यूरेनियम का इस्तेमाल कर सकता है। अमेरिकी साइंटिस्ट डेविड अलब्राइट ने कहा कि ईरान के परमाणु बम बनाने के लिए सामान तैयार है। उसके पास इतना यूरेनियम है कि वह 12 परमाणु बम बना सकता है। स्टॉकहॉम इंटरनेशनल पीस रिसर्च (Sipri) की रिपोर्ट के अनुसार, 2021 में 156 परमाणु थे, जो 2022 में बढ़कर 160 हो गए। परमाणु हथियार के मामले में भारत 'नो फर्स्ट यूज' पॉलिसी का पालन करता है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.