two-fraudsters-arrested-including-retired-navy-officer-attempting-to-grab-property-worth-crores
two-fraudsters-arrested-including-retired-navy-officer-attempting-to-grab-property-worth-crores

सेवानिवृत्त नेवी अधिकारी सहित दो जालसाज गिरफ्तार, करोड़ों की प्रॉपर्टी हड़पने का प्रयास

नई दिल्ली, 31 मार्च (हि.स.)। फर्जी वसीयत तैयार कर करोड़ों रुपये की ठगी के आरोप में दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने पूर्व नौसेना अधिकारी समेत दो लोगों को गिरफ्तार किया है। आरोपितों की पहचान सोम विहार, आरके पुरम निवासी पवन सरीन (69) और सर्वोदय एंक्लेव निवासी दीपक सरीन (71) के रूप में हुई है। दीपक नौसेना से रिटायर है जबकि पवन का होटल का कारोबार है। दोनों ने मालचा मार्ग डिप्लोमैटिक एन्क्लेव की एक प्रॉपर्टी की फर्जी वसीयत बनाकर वारदात को अंजाम दिया। हालांकि अपनी गिरफ्तारी से पूर्व दोनों ने कोर्ट में जमानत की याचिका दी, जिसके बाद उनको जमानत दे दी गई। पुलिस ने दोनों को औपचारिक रूप से गिरफ्तार कर रिहा कर दिया। मामले की छानबीन जारी है। आर्थिक अपराध शाखा के डीसीपी मोहम्मद अली ने बताया कि पीड़ित ने वर्ष 2018 में चाणक्यपुरी थाने में 27 करोड़ रुपये की ठगी की शिकायत दर्ज कराई थी। पीड़ित ने बताया कि उसने 14 नवंबर 2013 अपने पार्टनर के साथ मिलकर मालचा मार्ग, डिप्लोमैटिक एन्क्लेव में एक महिला प्रेम कंपानी से एक प्रॉपर्टी का सौदा 27 करोड़ रुपये में किया था। एडवांस के रूप में दोनों ने प्रेम कंपानी को 2.70 करोड़ रुपये अदा कर दिए। इससे पहले कि प्रेम कंपानी प्रॉपर्टी को पीड़ितों के नाम प्रॉपर्टी ट्रांसफर कर पातीं 18 जनवरी 2014 को प्रेम कंपानी की मौत हो गई। सौदे में एक गवाह दीपक सरीन व पवन नामक शख्स ने खुद को प्रेम कंपानी का वारिस बताकर एक वसीहत पेश कर दी। वसीयत 11 अगस्त 2005 की बनी हुई थी। बकायदा वसीयत पर प्रेम कंपानी के साइन होने का दावा किया गया। खुद को वारिस होने का दावा कर आरोपितों ने दोनों पीड़ितों से प्रॉपर्टी की पेमेंट भी ले ली। बाद में पीड़ितों को पता चला कि वसीयत फर्जी है और उनका प्रेम कंपानी से कोई लेना देना नहीं है। आरके पुरम थाने में मामला दर्ज हुआ। बाद में इसकी जांच आर्थिक अपराध शाखा को सौंप दी गई। एसआई आदित्य शर्मा व अन्यों की टीम ने मामले की जांच शुरू कर दी। दोनों आरोपितों से वसीयत कब्जे में लेकर उसे जांच के लिए एफएसएल भेज दिया गया। वहां से आई उसकी रिपोर्ट से पता चला कि वसीयत पर प्रेम कंपानी के साइन फर्जी हैं। इस आधार पर पुलिस ने दोनों आरोपित दीपक सरीन और पवन सरीन को उनके घर से औपचारिक रूप से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस मामले की जांच कर रही है। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी

Related Stories

No stories found.