case-will-be-registered-on-nagda-grasim-chemical-division-manager
case-will-be-registered-on-nagda-grasim-chemical-division-manager

नागदा, ग्रेसिम केमिकल डिवीजन प्रबंधक पर दर्ज होगा प्रकरण

नागदा, 28 मई (हि.स.)। उज्जैन जिले के औद्यागिक नगर नागदा में संचालित ग्रेसिम केमिकल डिवीजन यूनिट में लगभग 2 माह पहले हुई एक श्रमिक की दुर्घटना के मामले में औद्योगिक स्वास्थ्य एवं सुरक्षा विभाग संभाग उज्जैन को डायरेक्टर से अनुमति मिल गई। विभाग अब प्रबंधन के खिलाफ प्रकरण दर्ज करने की तैयारी में है। अब शीघ्र सीजेएम न्यायालय में प्रकरण दर्ज किया जाएगा। विभाग ने प्रबंधक को पहले शोकॉज नोटिस जारी कर अपना पक्ष जाना था। प्रबंधन के जवाब से असंतुष्ट औद्योगिक स्वास्थ्य एवं सुरक्षा विभाग ने प्रकरण को स्वीकृति के लिए विभाग के डायरेक्टर के समक्ष स्वीकृति के लिए इंदौर भेजा था। जहां से स्वीकृति प्राप्त हुई है। गौरतलब हैकि गत 26 मार्च को ठेका मजदूर गोवर्धन पुत्र नानुराम कास्टिक सोड़ा प्लांट के जर्जर लगभग 12 फीट उंचे प्लेटफार्म से गिरकर गंभीर घायल हुआ था। घायल का इंदौर के एक निजीअस्पताल में उपचार हुआ। उपसंचालक ने की पुष्टि औद्योगिक स्वास्थ्य एवं सुरक्षा विभाग के संचालक अरविंद कुमार शर्मा का कहना हे कि ठेका मजदूर गोवर्धन की दुर्घटना के मामले में विभाग को उच्च स्तर से अनुमति प्राप्त हो गई है। अब शीघ्र न्यायालय में ग्रेसिम केमिकल डिवीजन के कारखाना अधिभोगी एवं प्रबंधक के खिलाफ न्यायालय उज्जैन में लॉक -डाउन खुलते ही प्रकरण दर्ज किया जाएगा। नोटिस में बताई थी ये लापरवाही हेल्थ एंड सेफटी विभाग ने उद्योग प्रबंधन को लगभग डेढ माह पहले शोकॉज नोटिस दिया गया था, जिसमें यह बात प्रमुखता से उठाई गई थीकि जो मजदूर घायल हुआ उसे पर्याप्त सुरक्षा उपकरण उपलब्ध नहीं कराए गए। पूर्व में ही विभाग के अधिकारी ने हिंदुस्थान समाचार से बातचीत में यह खुलासा किया थाकि ग्रेसिम केमिकल डिवीजन के कारखाना अधिभोगी डॉ. ओपी रूगंटा एवं प्रबंधक डा. प्रेम तिवारी है। हिन्दुस्थान समाचार /कैलाश सनोलिया/राजू

Related Stories

No stories found.