ठेले पर Ice Cream बेचकर खड़ा कर दी 20 हजार करोड़ की Company, कौन हैं आरजी चंद्रमोगन?

RG Chandramogan Success Story: नया साल नई जोश और उत्साह से भरा है। युवा अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए नए-नए कदम उठाएंगे और प्रयोग करेंगे।
आरजी चंद्रमोगन, जो गांव-गांव ठेले पर आइसक्रीम बेचा करते थे।
आरजी चंद्रमोगन, जो गांव-गांव ठेले पर आइसक्रीम बेचा करते थे। रफ्तार।

नई दिल्ली, रफ्तार। नया साल नई जोश और उत्साह से भरा है। युवा अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए नए-नए कदम उठाएंगे और प्रयोग करेंगे। ऐसे में उनके लिए एक सक्सेस स्टोरी है, जो यह बताती है कि शुरुआत भले छोटी हो पर कामयाबी बड़ी होनी चाहिए। हम सबने कभी-न-कभी हट्सन (Hutsun) की आइसक्रीम खाई होगी या उसकी दही, बटर जैसे डेयरी प्रोडक्ट का इस्तेमाल किया होगा। 1970 में यह ब्रांड शुरू हुआ था। अपने स्वाद और फ्लेवर की वजह से यह आइसक्रीम लोगों में काफी पॉपुलर है। इसे पॉपुलर बनाने वाले आरजी चंद्रमोगन हैं। शुरुआती दिनों में आरजी गांव-गांव घूम-घूमकर ठेले पर अपना आइसक्रीम बेचा करते थे। आज अमीरों की लिस्ट में वह मुकेश अंबानी, गौतम अडानी जैसे कारोबारियों के साथ रेस में हैं।

65 रुपए की सैलरी पर नौकरी भी की

हटसन एग्रो प्रोडक्ट के मालिक आरजी चंद्रमोगन का जन्म तमिलनाडु के विरुधुनगर जिले के थिरुथंगल में हुआ है। उन्होंने गांव में ही शुरुआती पढ़ाई की। आर्थिक स्थिति कमजोर होने से पढ़ाई बीच में छोड़नी पड़ी। उन्होंने लकड़ी मिल में नौकरी की। वहां उन्हें 65 रुपए सैलरी मिलती थी। उन्होंने एक साल उस सैलरी पर काम किया।

घरवालों ने बिजनेस शुरू करने को दिए थे 13 हजार रुपए

आरजी चंद्रमोगन को अचानक दिमाग में खुद का काम शुरू करने का ख्याल आया। थोड़ी बहुत सेविंग थी और घरवालों ने जमीन बेचकर 13 हजार रुपए दिए। उन्होंने इन्हीं पैसों से 1970 में आइसक्रीम का काम शुरू किया। रोयापुरम में 250 वर्ग फुट की जगह किराए पर ली और तीन कर्मचारियों के साथ मिलकर आइसक्रीम बनाना शुरू किया था। आइसक्रीम बेचने के लिए वह खुद ठेला लेकर निकल जाते थे। धीरे-धीरे लोगों को आइसक्रीम का स्वाद पसंद आने लगा। हालांकि कारोबार के पहले 10 साल काफी संघर्ष से भरे रहे।

अरुण ब्रांड से किया था लांच

उनका फोकस शुरुआत में छोटे गांव और कस्बे पर था। उन्होंने 1981 में अपना आइसक्रीम ब्रांड अरुण लांच किया, जिसे प्रोडक्ट गांव से शहरों तक पहुंचा। उनकी कमाई बढ़ने लगी। काम बढ़ा तो 1886 में कंपनी का नाम बदलकर हटसन एग्रो प्रोडक्ट रखा। आज उनकी कंपनी हटसन एग्रो प्रोडक्ट लिमिटेड बिक्री के हिसाब से देश की सबसे बड़ी प्राइवेट डेयरी कंपनियों में से एक है। कंपनी से 10 हजार गांवों से 4 लाख किसान जुड़े हैं। कंपनी आइसक्रीम के अलावा आरोक्य मिल्क, हटसन दही, हटसन पनीर और इबको आदि बेचती है। 38 देशों में प्रोडक्ट्स एक्सपोर्ट होते हैं।

2.4 अरब डॉलर से अधिक नेटवर्थ

कंपनी 20 हजार करोड़ के वैल्यएशन पर पहुंच गई है। फोर्ब्स बिलेनियर्स लिस्ट के मुताबिक आरजी चंद्रमोगन भारत के अमीरों की लिस्ट में शुमार हैं। वे 93वें नंबर पर हैं। उनका नेटवर्थ 2.4 अरब डॉलर से अधिक है।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.