Indian Railways: वेटिंग टिकट कैंसिल होने से रेलवे ने कमाए 505 करोड़, सिर्फ जनवरी में इतने करोड़ की आय

Earning From Waiting Tickets:भारतीय रेल ने वेटिंग लिस्ट टिकट के कैंसिल होने से बहुत बड़ी रकम कमाई की है। साल 2021 से जनवरी 2024 के दौरान रेलवे ने वेटिंग टिकट कैंसिलेशन से 1229.85 करोड़ रुपए कमाए हैं।
कैंसिल वेटिंग टिकटों से रेलवे की बंपर कमाई।
कैंसिल वेटिंग टिकटों से रेलवे की बंपर कमाई।रफ़्तार।

नई दिल्ली, रफ्तार। भारतीय रेल ने वेटिंग लिस्ट टिकट के कैंसिल होने से बहुत बड़ी रकम कमाई की है। साल 2021 से जनवरी 2024 के दौरान रेलवे ने वेटिंग टिकट कैंसिलेशन से 1229.85 करोड़ रुपए कमाए हैं। सूचना के अधिकार (RTI) के तहत यह जानकारी में सामने आई है। आंकड़ों से पता चला कि इस मद में रेलवे की कमाई हर साल बढ़ रही है। रेलवे ने साल 2021 में करीब 2.53 करोड़ वेटिंग टिकट के कैंसिल होने से 242.68 करोड़ रुपये कमाए हैं। ऐसे ही साल 2022 में 4.6 करोड़ टिकट कैंसिल हुए, जिससे 439.16 करोड़ रुपये की आय हुई है।

जनवरी 2024 में कमाए 43 करोड़ रुपये

भारतीय रेल ने 5.26 करोड़ टिकट कैंसिल होने से 505 करोड़ रुपये हासिल किए हैं। जनवरी 2024 में 45.86 लाख वेटिंग लिस्ट टिकट कैंसिल हुए, जिससे 43 करोड़ रुपये की आय हुई है। पिछले साल दिवाली सप्ताह यानी 5 से 17 नवंबर के बीच 96.18 लाख टिकट प्रभावित हुए थे। लगभग आधे यानी 47.82 लाख टिकट यात्रियों द्वारा कैंसिल किए गए, जो हर तरह के कोटा से वेटिंग लिस्ट में थे। रेलवे ने इतने कैंसिलेशन से 10.37 करोड़ रुपये कमाए थे।

कैंसिलेशन का नियम जानें

रेलवे के मुताबिक आरएसी/वेटलिस्ट टिकट के कैंसिलेशन पर प्रत्येक यात्री पर 60 रुपये नॉन-रिफंडेबल चार्ज काटा जाता है। इसी तरह आईआरसीटीसी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से खरीदे गए ई-टिकट पर नॉन-रिफंडेबल चार्ज के रूप में एसी क्लास में 30 रुपये देने होते हैं। आप यूपीआई से बुक किए गए ई-टिकट पर 20 रुपये चार्ज देने पड़ते हैं। नॉन-एसी क्लास में नेट बैंकिंग या कार्ड से बुक टिकट पर सर्विस चार्ज 15 रुपये लगता है। यूपीआई से बुकिंग होता है तो 10 रुपये सर्विस चार्ज देने पड़ते हैं। यानी यह तमाम चार्ज टिकट कैंसिलेशन पर यात्रियों को वापस नहीं होते हैं। रेलवे के लिए यह राशि कमाई का जरिया बन जाती है।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.