पॉलिसीबाजार को नयी बाजार संभावनायें खोजने में फिजिटल ने दी मदद : सौरभ तिवारी

philosophy-has-helped-policybazaar-to-find-new-market-prospects-saurabh-tiwari
philosophy-has-helped-policybazaar-to-find-new-market-prospects-saurabh-tiwari

नयी दिल्ली, 21 अप्रैल (आईएएनएस)। नयी पीढ़ी की बीमा कंपनी पॉलिसीबाजार के मुख्य प्रौद्योगिकी अधिकारी (सीटीओ) सौरभ तिवारी ने आईएएनएस को बताया कि फिजिकल और डिजिटल यानी फिजिटल मॉडल ने नये बाजारों की क्षमता का दोहन करने में कंपनी की मदद की है। कारोना महामारी ने भारत में जीवन बीमा की पैठ को वैश्विक औसत के लगभग बराबर कर दिया है। पॉलिसीबाजार का मानना है कि यह रूझान उपभोक्ता व्यवहार में महत्वपूर्ण परिवर्तन को जारी रखेगा। सीटीओ ने कहा, जीवन की क्षणभंगुरता एक क्रूर वास्तविकता है, जो सभी पर समान रूप से लागू होती है और भारतीयों के पास मानकीकृत सामाजिक सुरक्षा की सुविधा उपलब्ध नहीं है। उन्होंने कहा, कोरोना महामारी से पहले टर्म इंश्योरेंस की पहुंच सीमित थी। हालांकि, कोविड-19 के पिछले दो वर्षों ने बीमा उत्पादों, विशेष रूप से टर्म इंश्योरेंस की खरीद को बढ़ाने में मदद की है। डिजिटलीकरण के साथ पहुंच और सूचना की आसानी की सुविधा के साथ, उपभोक्ता अब चंद क्लिक कर अपने वित्तीय निर्णय ले सकते हैं और अपने भविष्य को सुरक्षित कर सकते हैं। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान, टर्म इंश्योरेंस भारत में गूगल सर्च में सबसे अधिक सर्च किया गया। यह काफी बड़ी प्रगति है। यह जागरूकता में तेज वृद्धि का संकेत देता है और बीमा की मांग में बढ़ोतरी को बताता है। यह पूछे जाने पर कि कंपनी भौतिक और डिजिटल दोनों दुनिया में एक सहज फिजिटल अनुभव कैसे सुनिश्चित करेगी, सीटीओ ने कहा, हमारा उद्देश्य अपने ग्राहकों को एक मजबूत, पूर्ण सेवा प्रदान करने के लिये इन दोनों मॉडलों को एकजुट करना और सपोर्ट सिस्टम देना है। पारंपरिक रूप से, बीमा एक ऑफलाइन मॉडल पर काम करता था और अभी भी समग्र वितरण में इसका एक बड़ा हिस्सा है, जो अभी 80 प्रतिशत के करीब है। डिजिटलीकरण के आगमन के बाद ग्राहक सेवा प्रदान करने में ऑनलाइन माध्यम भी योगदान दे रहे हैं। महत्वपूर्ण रूप से, डिजिटल और भौतिक मॉडल ने एक साथ मिलकर उन ग्राहकों का भरोसा जीतने की कोशिश की है, जो ऑनलाइन शोध करते हैं लेकिन ऑफलाइन खरीदारी पसंद करते हैं। इसके अलावा, यह पूछे जाने पर कि कंपनी एआई / एमएल और डाटा एनालिटिक्स का उपयोग कैसे कर रही है, सीटीओ ने कहा, उपभोक्ता व्यवहार में अनुसंधान और उपलब्ध डाटा तक बेहतर पहुंच के साथ बदलाव होता है, वे आसानी से ऑनलाइन तुलना कर सकते हैं, सहायता मांग सकते हैं और बेहतर विकल्प चुन सकते हैं। हमारे पास मौजूद डाटा भंडार की उपलब्धता, उन्हें ऐसा करने में सक्षम बनाती है। परंपरागत रूप से, जिस तरह से बीमा खरीदा और बेचा जाता है वह मोटे तौर पर स्थिर मापदंडों पर आधारित होता है। उन्होंने कहा, कंपनी ग्राहक अनुभव को पूरी तरह से बदलने के लिये और प्रक्रिया को अधिक लागत और समय दक्ष बनाने के लिये स्वचालन की क्षमता का लाभ उठा रही है। प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल से हमें ग्राहक के जोखिम प्रोफाइल का कुशलतापूर्वक आकलन करने में मदद मिलती है, जो अंडरराइटिंग के लिये एक तरह की सफलता है। सीटीओ ने कहा कि क्लाउड टेक्नोलॉजी ने बीमा कंपनी को क्लाउड पर अपने एप्लीकेशन को तेजी से बनाने में मदद की है। यह प्लेटफॉर्म फारगेट और डब्ल्यूएएफ/शील्ड के साथ अमेजन आरडीएस, एएलबी, क्लाउडवॉच, ईसीएस जैसी प्रबंधित सेवाओं के एप्लिकेशन के लिये सभी बिल्डिंग ब्लॉक प्रदान करता है। एडब्ल्यूएस के साथ हमें इच्छानुसार संसाधनों का प्रावधान करने का लाभ मिला। सौरभ तिवारी ने कहा, इसके अलावा संसाधनों की निगरानी, प्रबंधन और डीकमीशनिंग आसान है। व्यावसायिक परिणामों के संदर्भ में अमेजन वेब सेवा के उपयोग से निम्नलिखित प्रमुख लाभों का अनुभव किया। (क) लागत में कमी : पीक लोड के आधार पर डाटा सेंटर पर अग्रिम में भारी निवेश करने के बजाय केवल तभी भुगतान करने की जरूरत, जब आप कंप्यूटिंग संसाधनों का उपभोग करते हैं, और जितना उपभोग करते हैं सिर्फ उसके लिये भुगतान करना, एक बड़ा लाभ है। चूंकि, यह एक ओपेक्स मॉडल है, इसके लिये महत्वपूर्ण अग्रिम निवेश की आवश्यकता नहीं है। (ख) त्वरित समय : क्लाउड कंप्यूटिंग वातावरण में नये आईटी संसाधन केवल एक क्लिक दूर हैं, जिसका अर्थ है कि डेवलपर्स के लिये वे संसाधन और एप्लीकेशन को हफ्तों के बजाय मिनटों में उपलब्ध हो सकते हैं। यह आवश्यक संसाधन शत प्रतिशत समय पर प्राप्त करने में मदद करता है। (ग) संसाधनों का प्रभावी उपयोग : यह बड़े पैमाने पर बुनियादी ढांचे और विकास प्रक्रियाओं का संचालन और प्रबंधन करता है। स्वचालन और स्थिरता संसाधनों को पूर्ण रूप से प्रबंधित और उपयोग करने में सहायता करती है। ईसीएस और फारगेट (डॉकर), आरडीएस के महत्वपूर्ण संसाधनों का संसाधन उपयोग इलास्टिक-कैश 98 प्रतिशत-99 प्रतिशत है। यह अमेजन क्लाउडवॉच के माध्यम से एडब्ल्सूएस रिसोर्स की निगरानी करता है। (घ) तेजी से परिनियोजन और कम लैटेंसी : यह कोड, परिनियोजन और जेनकिंस का उपयोग कर कुछ ही क्लिक के साथ दुनिया भर के कई क्षेत्रों में आसानी से अपने एप्लीकेशन का उपयोग करता है। इसके साथ यह कम लैटेंसी और अपने ग्राहकों के लिये कम से कम दाम में एक बेहतर अनुभव प्रदान कर सकता है। (ड़) बेहतर उपलब्धता : एडब्ल्यूएस ने व्यापार के लिये महत्वपूर्ण जानकारी, एप्लीकेशन और सेवाओं की उपलब्धता में सुधार करने में मदद की है। संसाधन उपलब्धता 99 प्रतिशत है और यह कई टेम्पलेट्स और एकाधिक संसाधन प्रकारों के साथ एएसजी सुविधा का उपयोग करता है। (च) प्रबंधन दक्षता: ब्राउजर पर एडब्ल्यूएस पोर्टल के माध्यम से इन्फ्रा और एप्लिकेशन प्रबंधन कहीं अधिक आसान है, क्योंकि इसे कहीं से भी एक्सेस किया जा सकता है। (छ) जोखिम प्रबंधन में सुधार : एडब्ल्यूएस पोर्टल के जरिये ब्राउजर पर इंफ्रा और एप्लीकेशन प्रबंधन कहीं अधिक आसान है और इसे कहीं से भी एक्सेस किया जा सकता है। (ज) एडब्ल्यूएस ने कारोबारी घंटे के दौरान स्केलिंग, उपलब्धता और रिकवरी के मामले में जोखिम सुधार में मदद की है। --आईएएनएस एकेएस/एसकेपी

Related Stories

No stories found.