Zomato से अब Payment भी, पेमेंट सर्विस के लिए RBI ने दी मंजूरी

Zomato Payment Service: जोमैटो से अब आप खाना ऑर्डर करने के साथ पेमेंट भी कर सकेंगे। जोमैटो को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने पेमेंट एग्रीगेटर लाइसेंस दे दिया है।
जोमैटो शुरू कर रहा पेमेंट सर्विस।
जोमैटो शुरू कर रहा पेमेंट सर्विस। रफ्तार।

नई दिल्ली, रफ्तार। जोमैटो से अब आप खाना ऑर्डर करने के साथ पेमेंट भी कर सकेंगे। जोमैटो को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने पेमेंट एग्रीगेटर लाइसेंस दे दिया है। जोमैटो को यह लाइसेंस लेने में 3 साल लगा। बताते दें अब जोमैटो खुद के जरिए पेमेंट की सर्विस मुहैया कराएगा। जोमैटो ने शेयर मार्केट को जानकारी दी है कि 2021 में 4 अगस्त को आरबीआई के पास पेमेंट एग्रीगेटर लाइसेंस के लिए अप्लाई किया था। अब जाकर आरबीआई ने कंपनी को लाइसेंस दिया है।

ऑनलाइन ट्रांजेक्शन एप्लीकेशन की श्रेणी में शामिल

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने यह लाइसेंस जोमैटो पेमेंट्स प्राइवेट लिमिटेड को दिया है। जो जोमैटो के पूर्ण स्वामित्व वाली कंपनी है। आरबीआई ने लाइसेंस 24 जनवरी 2024 को जारी किया। साथ ही जोमैटो भी अब टाटा पर रेजर पर और कैश फ्री जैसे तमाम तरह के ऑनलाइन ट्रांजेक्शन एप्लीकेशन की श्रेणी में शामिल हो गया। जोमैटो की पेमेंट एप आने से उसे डबल लाभ होगा, क्योंकि उससे खाना मांगने वाले लोग और ब्लिंकिट के जरिए ग्रोसरी मांगने वाले लोग अब इस एप्लीकेशन के जरिए पैसों का लेन- देन कर पाएंगे।

जोमैटो का मार्केट कैप 1.18 लाख करोड़

जोमैटो का मार्केट कैपिटलाइजेशन 1.18 लाख करोड़ का है। इस वित्त वर्ष के पिछले क्वार्टर में कंपनी का राजस्व बढ़कर 3060 करोड़ रुपए हुआ था। इससे पहले के क्वार्टर में कंपनी की आय 2597 करोड़ रुपए थी। सितंबर क्वार्टर में प्रॉफिट 36 करोड़ रुपए हो गया। उसकी पहली तिमाही में प्रॉफिट सिर्फ दो करोड़ रुपए था। एक क्वार्टर के भीतर यह जोमैटो की जबरदस्त ग्रोथ है।

जोमैटो के शेयर में थी गिरावट

जोमैटो के शेयर में शुक्रवार को बाजार बंद होने तक 0.59 प्रतिशत की गिरावट थी। यह 135.40 रुपए पर कारोबार कर रहा था। एक कारोबारी महीने में कंपनी ने निवेशकों को 8.32 प्रतिशत रिटर्न दिया है। कंपनी के बीते 52 हफ्तों पर नजर डालें तो इसके शेयर का उच्चतम स्तर 141.50 रुपए था। निचले स्तर की बात करें तो बीते 52 हफ्तों में कंपनी का निचला स्तर 44.35 रुपए है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करेंwww.raftaar.in

Related Stories

No stories found.