640 करोड़ रुपए का IPO आज खुल रहा, निवेश का इस दिन तक मौका, जानें कंपनी Profile

IPO Update: एयर कंडीशनर (एसी) कंपनी ईपैक ड्यूरेबल का आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (IPO) आज सब्सक्रिप्शन के लिए खुलेगा। दो दिनों में स्टॉक का ग्रे मार्केट प्रीमियम 6 प्रतिशत से बढ़कर 13 प्रतिशत पहुंचा।
आईपीओ।
आईपीओ।रफ्तार।

नई दिल्ली, रफ्तार। एयर कंडीशनर (एसी) कंपनी ईपैक ड्यूरेबल (EPACK Durable) का आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (IPO) आज सब्सक्रिप्शन के लिए खुलेगा। दो दिनों में स्टॉक का ग्रे मार्केट प्रीमियम (GMP) 6 प्रतिशत से बढ़कर 13 प्रतिशत पहुंचा। कंपनी ने IPO का प्राइस बैंड 218-230 रुपये प्रति शेयर तय किया है। निवेशक आईपीओ में 23 जनवरी तक निवेश कर सकेंगे। आईपीओ शेड्यूल के अनुसार सफल निवेशकों को शेयरों का अलॉटमेंट 24 जनवरी को होगा। वहीं, सफल निवेशकों के डीमैट अकाउंट में 25 जनवरी को शेयर क्रेडिट होंगे। बता दें एंकर निवेशकों के लिए आईपीओ 18 जनवरी को खुला था। आधिकारिक जानकारी के अनुसार कंपनी के शेयरों की लिस्टिंग 29 जनवरी को NSE और BSE पर हो सकती है।

IPO लॉट साइज

न्यूनतम लॉट साइज 65 इक्विटी शेयर तय है। खुदरा निवेशक न्यूनतम 14950 रुपए प्राइस के 65 इक्विटी शेयरों के लिए बोली लगा सकते हैं। आईपीओ आकार का आधा हिस्सा योग्य संस्थागत खरीदारों (QIB) के लिए और 15 प्रतिशत गैर-संस्थागत निवेशकों (NII) के लिए रिजर्व है।

कितने शेयर बिकेंगे?

ईपैक ड्यूरेबल के आईपीओ में 400 करोड़ रुपए के नए शेयर बेचे जाएंगे। इसमें प्रमोटर, प्रमोटर ग्रुप के सदस्यों एवं मौजूदा शेयरधारकों की 240 करोड़ रुपए की बिक्री पेशकश (ओएफएस) शामिल है। यह सामूहिक रूप से 1.3 करोड़ शेयर बेच रहे। आईपीओ लाने से पहले प्रवर्तकों के पास कंपनी की 67 प्रतिशत हिस्सेदारी है।

कौन है प्रमोटर?

कंपनी के प्रमोटरों में बजरंग बोथरा, लक्ष्मी पाट बोथरा, संजय सिंघानिया और अजय डीडी सिंघानिया हैं। आईपीओ के बुक-रनिंग लीड मैनेजर एक्सिस कैपिटल, डैम कैपिटल एडवाइजर्स और ICICI सिक्योरिटीज हैं, जबकि केफिन टेक्नोलॉजीज रजिस्ट्रार हैं।

कहां होगा पैसों का इस्तेमाल?

कंपनी आईपीओ के जरिए जुटाए पैसों से कैपिटल एक्सपेंडिचर से जुड़ी जरूरतों को पूरा करेगी। कंपनी भिवाड़ी, राजस्थान और श्री सिटी, आंध्र प्रदेश में मैन्युफैक्चरिंग कैपिसिटी स्थापित करने वाली है। साथ ही भिवाड़ी मैन्युफैक्चरिंग फैसिलिटी के लिए इक्विपमेंट खरीदने की योजना है। कर्ज के भुगतान में भी फंड का इस्तेमाल करने वाली है। शेष रकम का उपयोग सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों के लिए होगा।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.