Investment: इस स्कीम में लगा दें पैसे, हर महीने खाते में आएंगे 5550 रुपए

Investment Options: रिटायरमेंट बाद जमा पूंजी को सुरक्षित निवेश बड़ी चिंता रहती है। आप निवेश का सुरक्षित विकल्‍प खोज रहे तो पोस्ट ऑफिस की स्मॉल सेविंग्स स्कीम मंथली इनकम स्कीम से जुड़ सकते हैं।
पोस्ट ऑफिस स्कीम।
पोस्ट ऑफिस स्कीम।रफ्तार।

नई दिल्ली, रफ्तार। रिटायरमेंट बाद जमा पूंजी को सुरक्षित विकल्‍प में निवेश करना बड़ी चिंता रहती है। आप निवेश का सुरक्षित विकल्‍प खोज रहे तो पोस्ट ऑफिस (Post Office) की स्मॉल सेविंग्स स्कीम (Small Savings) मंथली इनकम स्कीम (national-savings-monthly-income-scheme) से जुड़ सकते हैं। इसमें जमा रकम सुरक्षित रहने के साथ-साथ उससे आपको हर महीने अच्छी आय भी होगी।

1 अप्रैल से बढ़ा है ब्‍याज

पोस्‍ट ऑफिस की मंथली इनकम स्कीम (POMIS) के तहत इस अप्रैल से डिपॉजिट लिमिट बढ़ी है। सरकार ने ब्‍याज दर भी बढ़ा दी है। इस साल पेश बजट में केंद्र सरकार ने पोस्‍ट ऑफिस की मंथली इनकम स्कीम (POMIS) के लिए जमा की अधिकतम लिमिट बढ़ाकर 15 लाख कर दी है। इसमें अब सिंगल अकाउंट के जरिए 9 लाख और ज्‍वॉइंट अकाउंट के माध्यम से 15 लाख जमा कर सकते हैं। पहले लिमिट 4.50 लाख और 9 लाख थी। 1 अप्रैल से ब्याज दर बढ़ाकर 7.4 फीसदी की गई है। यह अकाउंट खोलने के लिए कम-से-कम 1000 रुपए निवेश जरूरी है। इसके बाद 1000 रुपए के मल्टीपल में जमा हो सकता है।

स्कीम में फायदा कैसे?

पोस्‍ट ऑफिस की मंथली इनकम स्कीम पर वार्षिक ब्‍याज 7.4 फीसदी है। इसमें जमा पैसों पर जो सालाना ब्याज होता है, उसे 12 हिस्सों में बांटा जाता है। यह हिस्‍सा खाते में ही आ जाता है। आप ब्‍याज का पैसा नहीं निकालें तो वह आपके पोस्ट ऑफिस सेविंग अकाउंट में रहेगा। स्‍कीम मैच्‍योर होने पर मूलधन के साथ ब्‍याज का पैसा मिलेगा। स्‍कीम की मैच्‍योरिटी 5 साल है। मगर, 5 साल बाद नए ब्याज दर के हिसाब से आगे बढ़ा सकते हैं। 5 साल बाद योजना में नहीं रहना है तो पूरा पैसा मिलेगा।

मासिक आय: सिंगल अकाउंट होने पर

ब्याज दर: 7.4% सालाना

अधिकतम निवेश: 9 लाख रुपए

सालाना ब्याज: 66,600 रुपए

मासिक ब्याज: 5550 रुपए

मंथली इनकम: अगर ज्‍वॉइंट अकाउंट हो तो

ब्याज दर: 7.4 फीसदी सालाना

ज्‍वॉइंट अकाउंट से अधिकतम निवेश: 15 लाख रुपए

सालाना ब्याज: 1,11,000 रुपए

मासिक ब्याज: 9250 रुपए

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.