Paytm यूजर्स के लिए खुशखबरी, कंपनी का Axis Bank से करार, अब ट्रांजेक्शन में नहीं होगी परेशानी

Paytm and Axis Bank: पेटीएम पेमेंट्स बैंक यूजर्स के लिए बेहद अच्छी खबर है। पहले आरबीआई ने प्रतिबंध की अवधि 15 दिन बढ़ा दी। अब पेटीएम ने एक्सिस बैंक से करार कर लिया है।
पेटीएम।
पेटीएम।@Paytm एक्स सोशल मीडिया।

नई दिल्ली, रफ्तार। पेटीएम पेमेंट्स बैंक यूजर्स के लिए बेहद अच्छी खबर है। पहले आरबीआई ने प्रतिबंध की अवधि 15 दिन बढ़ा दी। अब पेटीएम ने एक्सिस बैंक से करार कर लिया है। पेटीएम ने प्रेस रिलीज जारी कर बताया है कि कंपनी ने बिना बाधा बिजनेस सैटलमेंट जारी रखने के लिए अपने नोडल खाते को एक्सिस बैंक में ट्रांसफर किया है।

15 मार्च के बाद भी सेवाएं जारी रहेंगी : पेटीएम

पेटीएम ने बताया कि पेटीएम क्यूआर कोड, साउंड बॉक्स और कार्ड मशीनें 15 मार्च के बाद भी पहले की तरह काम करती रहेंगी। गौरतलब है कि आरबीआई ने जनवरी में वन97 कम्युनिकेशंस (ओसीएल) के सहयोगी पेटीएम पेमेंट्स बैंक को 29 फरवरी से अपने खातों या वॉलेट में कोई भी नई जमा राशि नहीं लेने का आदेश दिया था। अब डेडलाइन को 15 दिन के लिए बढ़ाया गया है।

आरबीआई ने कार्रवाई पर क्या कहा?

RBI ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक पर कार्रवाई नियमों का अनुपालन नहीं किए जाने की वजह से शुरू की थी। इस हफ्ते की शुरुआत में पेटीएम पर विदेशी लेन-देन की जानकारी की जांच शुरू की थी। आरबीआई ने कहा कि मर्चेंट्स समेत ग्राहकों को वैकल्पिक व्यवस्था करने के लिए थोड़ा और समय दिया गया है।

एफएक्यू भी जारी किया

RBI ने कहा है कि 15 मार्च के बाद किसी भी ग्राहक खाते, प्रीपेड उपकरण, वॉलेट, फास्टैग, नेशनल कॉमन मोबिलिटी कार्ड आदि में कोई और जमा या क्रेडिट लेन-देन या टॉप-अप की मंजूरी नहीं मिलेगी। आरबीआई ने एफएक्यू भी जारी किया है।

रेगुलेटर ने क्या कहा?

RBI ने कहा कि ग्राहक पेटीएम पेमेंट्स बैंक खातों एवं वॉलेट से पैसे खत्म होने तक उसे निकाल या इस्तेमाल कर सकते हैं। 15 मार्च के बाद कोई नई राशि नहीं डाली जा सकेगी, जो ग्राहक इन खातों में सैलरी या सरकारी सब्सिडी समेत अन्य लेन-देन करते हैं, वे मार्च मध्य तक वैकल्पिक व्यवस्था कर लें। जो मर्चेंट्स पेमेंट्स एक्सेप्ट करने के लिए पेटीएम के क्यूआर कोड का प्रयोग करते हैं, अगर ये क्यूआर कोड पेटीएम पेमेंट्स बैंक के अलावा अन्य खातों से जुड़े हों तो वह इसे जारी रख सकेंगे।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.