cdsl-becomes-first-depository-in-the-country-with-6-crore-active-demat-accounts
cdsl-becomes-first-depository-in-the-country-with-6-crore-active-demat-accounts

सीडीएसएल 6 करोड़ सक्रिय डीमैट अकाउंट्स के साथ देश का पहला डिपॉजिटरी बना

नई दिल्ली, 1 मार्च (आईएएनएस)। सेंट्रल डिपॉजिटरी सर्विसेज (इंडिया) ने मंगलवार को कहा कि उसके पास अब छह करोड़ से अधिक (60 मिलियन) से अधिक सक्रिय डीमैट खाते (एक्टिव डीमैट अकाउंट्स) हैं। सेंट्रल डिपॉजिटरी सर्विसेज (इंडिया) लिमिटेड (सीडीएसएल) भारत की एकमात्र सूचीबद्ध डिपॉजिटरी है। सीडीएसएल के अध्यक्ष बी. वी. चौबल ने कहा, यह ध्यान देने योग्य है कि नए डीमैट खातों के पंजीकरण का ध्यान महानगरों से टियर-2 और टियर-3 शहरों में स्थानांतरित हो रहा है, जो भारतीय पूंजी बाजार के व्यापक होने का संकेत है। चौबल ने आगे कहा, अब हमारे पास 6 करोड़ डीमैट खाते हैं, फिर भी हमारे डीमैट खाते अभी भी पूरी आबादी के लिहाज से बहुत कम हैं। हमारे देश की आबादी का एक बड़ा हिस्सा अभी भी इंडियन सिक्योरिटीज मार्केट से बाहर होने के कारण ग्रोथ के लिए एक बड़ा अवसर अभी भी मौजूद है। इस उपलब्धि को चिह्न्ति करने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड के पूर्णकालिक सदस्य अनंत बरुआ ने कहा, डिमटेरियलाइजेशन भौतिक शेयरों के कारण हुई कठिनाइयों का एक उत्पाद था। भारतीय प्रतिभूति बाजार तक पहुंच सुरक्षित, सुविधाजनक और हो गई है। आसान और नया मील का पत्थर उसी का प्रतिनिधित्व है। इसके अलावा, बरुआ ने कहा कि नए निवेशकों के बीच भारतीय प्रतिभूति बाजार, बाजार बुनियादी ढांचा संस्थानों की भूमिका और निवेशक संरक्षण के बारे में जागरूकता पैदा करने की जरूरत है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वे सूचित या जानकारी से लैस निर्णय लें। --आईएएनएस एकेके/एएनएम

Related Stories

No stories found.