Business News : जून में मामूली बढ़त हुई है टेलीफोन उपभोक्ताओं की संख्या में

TRAI की रिपोर्ट की अनुसार टेलीफोन ग्राहकों की कुल संख्या हुई 117.39 करोड़ हुई !
TRAI
TRAIHS

नई दिल्ली, 25 अगस्त 2023 भारत में दूरसंचार ग्राहकों की संख्या जून में मामूली बढ़कर 117.39 करोड़ हो गई है। यह जानकारी दूरसंचार नियामक ट्राई ने दी है। हालांकि, इस बढ़ोतरी में निजी क्षेत्र की दो प्रमुख कंपनियों, रिलायंस जियो और भारती एयरटेल के नए ग्राहकों की संख्या में वृद्धि का प्रमुख योगदान है। ट्राई की रिपोर्ट के अनुसार, जून महीने में टेलीफोन ग्राहकों की संख्या 0.11 फीसदी वृद्धि के साथ 117.39 करोड़ पहुंच गई, जबकि मई में यह संख्या 117.26 करोड़ थी।

हालांकि यह वृद्धि दिखने वाली है, लेकिन इसका प्रमुख कारण सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनियों, जैसे कि बीएसएनएल, एमटीएनएल और वोडाफोन आइडिया, के ग्राहकों की संख्या में कमी है जिन्होंने इस परिप्रेक्ष्य में ग्राहकों को खो दिया है। रिलायंस जियो ने जून महीने में 22.7 लाख नए ग्राहक जोड़े हैं, जबकि भारती एयरटेल की ग्राहक संख्या में 14 लाख की वृद्धि दर्ज की गई है। हालांकि, इसी दौरान बीएसएनएल ने 18.7 लाख, वोडाफोन आइडिया ने 12.8 लाख और एमटीएनएल ने 1.53 लाख मोबाइल ग्राहकों की संख्या में गिरावट का सामना किया है। यह जानकारी दिखाती है कि दूरसंचार क्षेत्र में सुखद वृद्धि के अलावा भी, कुछ कंपनियों के ग्राहकों की संख्या में थोड़ी सी कमी हुई है, जिससे वित्तीय और व्यवसायिक दृष्टिकोण से इन कंपनियों को चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।

ज्ञात हो की बीएसएनएल को हाल ही में 50,000 करोड़ रुपये के घाटे का अनुमान लगाया गया है, जबकि वोडाफोन आइडिया ने 2022-23 में 19,000 करोड़ रुपये से अधिक का घाटा दर्ज किया है। इसके अलावा, इन कंपनियों की प्रतिस्पर्धात्मक स्थिति कमजोर हो रही है। रिलायंस जियो और भारती एयरटेल ने इन कंपनियों को पीछे छोड़ दिया है और अब भारतीय दूरसंचार बाजार पर हावी हैं।

रिलायंस जियो और भारती एयरटेल ने अपने ग्राहकों को जोड़ने के लिए नए उत्पादों और सेवाओं की पेशकश की है। बीएसएनएल और वोडाफोन आइडिया ने अपने ग्राहकों को बनाए रखने के लिए अपने नेटवर्क और सेवाओं में सुधार किया है। सरकार ने दूरसंचार क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए कई उपाय किए हैं, जैसे कि ऑफलाइन डिजिटल भुगतान की सीमा बढ़ाना।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.