Paytm यूजर्स के लिए बड़ी खबर, RBI ने NPCI को माइग्रेशन सुविधा देने को कहा

RBI on Paytm: पेटीएम पेमेंट बैंक पर कार्रवाई करने के साथ RBI यह ध्यान रख रहा कि लोगों को दिक्कत नहीं हो। RBI ने कहा अब पेटीएम पेमेंट बैंक 15 मार्च के बाद से किसी भी तरह का ट्रांजेक्शन नहीं कर पाएगा।
पेटीएम पेमेंट बैंक को लेकर आरबीआई के निर्देश जारी।
पेटीएम पेमेंट बैंक को लेकर आरबीआई के निर्देश जारी।@paytm एक्स सोशल मीडिया।

नई दिल्ली, रफ्तार। पेटीएम पेमेंट बैंक पर कार्रवाई करने के साथ RBI लगातार यह ध्यान रख रहा है कि आम लोगों को कोई दिक्कत नहीं हो। RBI ने कहा है कि अब पेटीएम पेमेंट बैंक 15 मार्च के बाद से किसी भी तरह का ट्रांजेक्शन नहीं कर पाएगा, इसके मद्देनजर कुछ उचित कदम उठाना जरूरी है। RBI द्वारा उठाए जा रहे हैं इन कदमों में @paytm हैंडल का इस्तेमाल कर पेटीएम पेमेंट बैंक के कस्टमर द्वारा ट्रांजेक्शन कर सकते हैं। साथ ही कंसंट्रेशन के खतरे को कम करने के लिए RBI ने कई पेमेंट एप प्रोवाइडर को शामिल करने की बात कही है।

पेमेंट गेटवे और दूसरी सेवाएं चालू रहेंगी

RBI द्वारा पेटीएम पेमेंट बैंक पर कार्रवाई के बाद पेटीएम को पेमेंट बैंक और उससे जुड़ी सभी सर्विस के इस्तेमाल पर रोक लगाने की बात कही गई है। हालांकि पेमेंट गेटवे और दूसरी सर्विस पहले की तरह ही चालू रहेंगे। साथ ही पेटीएम का इस्तेमाल कर मूवी की टिकट, ट्रेन की टिकट और कई तरह की बुकिंग भी कर सकेंगे।

चार से पांच बैंक बनाए जा सकते हैं सर्विस प्रोवाइडर

RBI ने नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया ( NPCI) को पेटीएम हैंडल्स को निर्बाध्य एवं आसान तरीके से दूसरे बैंक में माइग्रेट करने की बात कही है, ताकि किसी भी तरह के व्यवधान से बचा जा सके। इस प्रक्रिया को आसानी से पूरा किया जा सके। पेटीएम पेमेंट बैंक के अकाउंट को दूसरे बैंक में माइग्रेट करने की व्यवस्था को आसान बनाने के लिए चार से पांच बैंकों को पेमेंट सर्विस प्रोवाइडर बनाया जा सकता है। इस बात का ध्यान भी रखा जाएगा कि ये बैंक हाई वॉल्यूम यूपीआई ट्रांजेक्शन को प्रोसेस कर सकते हैं।

@Paytm का यूपीआई हैंडल वालों का माइग्रेशन

बता दें RBI की गाइडलाइन के मुताबिक यूपीआई हैंडल का माइग्रेशन सिर्फ उन्हें कस्टमर के लिए है, जिनके पास @Paytm का यूपीआई हैंडल है। जिनके पास दूसरा यूपीआई हैंडल है या ये यूपीआई हैंडल नहीं है, उनके लिए किसी तरह का एक्शन लिए जाने की जरूरत नहीं है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.