Budget24: वित्त मंत्री के बजट भाषण में क्या रहा खास? राष्ट्रपति मुर्मू के हाथों दही-चीनी खा कर हुई थी शुरूआत

Budget 2024 Update: संसद की कार्यवाही शुरू हो चुकी है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बजट भाषण दे रहीं हैं। इससे पहले राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने निर्मली सीतारमण को दही-चीनी खिलाई।
वित्त मंत्री को दही-चीनी खिलातीं राष्ट्रपति।
वित्त मंत्री को दही-चीनी खिलातीं राष्ट्रपति। रफ्तार।

नई दिल्ली, रफ्तार। संसद की कार्यवाही शुरू हो चुकी है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बजट भाषण दे रहीं हैं। इससे पहले राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने निर्मली सीतारमण को दही-चीनी खिलाई। बता दें निर्मला लगातार छठी बार बजट पेश कर रही हैं, जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है। मंत्री ने कहा कि हमारी सरकार का फोकस सामाजिक न्याय हमारी सरकार का मॉडल है। गरीब, महिला, युवा और किसान के कल्याण पर है। 25 करोड़ लोगों को गरीबी से निकाला है। मंत्री ने बताया कि स्किल इंडिया मिशन में 1.4 करोड़ युवाओं को ट्रेनिंग मिली है। हमने 390 यूनिवर्सिटी की स्थापना की। युवाओं को सशक्त करना हमारी सरकार का मकसद है। महिलाएं उच्च शिक्षा में ज्यादा से ज्यादा भाग ले रही हैं।

11.8 करोड़ किसानों को मदद

मंत्री ने बताया कि 11.8 करोड़ किसानों को सरकारी मदद दी जा रही है। पीएम फसल योजना से चार करोड़ किसानों को मदद मिली है।

80 करोड़ लोगों को दिया मुफ्त राशन

निर्मला सीतारमण ने भाषण में कहा कि हमारी सरकार ने सबके लिए आवास, हर घर नल का जल, रसोई गैस की सुविधा दी। 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दिया। ग्रामीण क्षेत्र में लोगों की आय बढ़ चुकी है। पीएम मोदी के नेतृत्व में देश आगे बढ़ रहा है। देश को 2047 तक विकसित बनाएंगे।

10 वर्षों में तेजी से बढ़ी अर्थव्यवस्था

वित्त मंत्री ने कहा कि पिछले 10 वर्षों में अर्थव्यवस्था तेजी से बढ़ी है। सरकारी योजनाओं का लाभ आम लोगों को मिल रहा है। रोजगार के अवसर काफी बढ़े हैं। अर्थव्यवस्था में सकारात्मक बदलाव दिखे हैं।

मोरारजी देसाई ने सबसे अधिक बार पेश किया है बजट

सबसे अधिक बार बजट पेश करने का रिकॉर्ड मोरारजी देसाई के नाम दर्ज है। उन्‍होंने संसद में 10 बार बजट प्रस्तुत किया है। आठ बार पूर्ण बजट और दो अंतरिम बजट। मोरारजी देसाई ने वित्‍त मंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान 1959 से 1964 तक पांच पूर्ण बजट और एक अंतरिम बजट पेश किया था।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.