बुलेटप्रूफ ट्रेन से दो दिन यात्रा कर रूस पहुंचे नार्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन, हथियार खरीदने की उम्मीद

उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन बुलेटप्रूफ ट्रेन से दो दिन की यात्रा कर रूस पहुंच गए हैं। किम जोंग उन की इस रूस यात्रा के दौरान हथियार खरीदने का बड़ा समझौता होने की उम्मीद जताई जा रही है।
बुलेटप्रूफ ट्रेन से दो दिन यात्रा कर रूस पहुंचे नार्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन, हथियार खरीदने की उम्मीद

मॉस्को, हि.स.। उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन बुलेटप्रूफ ट्रेन से दो दिन की यात्रा कर रूस पहुंच गए हैं। किम जोंग उन की इस रूस यात्रा के दौरान हथियार खरीदने का बड़ा समझौता होने की उम्मीद जताई जा रही है।

2019 के बाद पहली शिखर वार्ता

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन और उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन के बीच 2019 के बाद पहली बार शिखर वार्ता होगी। इस वार्ता के लिए किम जोंग उत्तर कोरिया से हथियारबंद बुलेट ट्रेन पर सवार होकर दो दिन की यात्रा के बाद रूस के व्लादिवोस्तोक शहर पहुंचे हैं। उत्तर कोरिया की राजधानी प्योंगयांग से रविवार को अपनी निजी ट्रेन में सवार हुए किम के साथ सत्तारूढ़ दल, सरकार और सेना के सदस्य भी हैं। रूस गए किम के प्रतिनिधिमंडल में उत्तर कोरिया की विदेश मंत्री चो सन हुई और 'कोरियन पीपुल्स आर्मी' के मार्शल री प्योंग चोल और पाक जोंग चोन समेत उनके शीर्ष सैन्य अधिकारी भी शामिल हैं।

हथियार की डील करने की उम्मीद

किम जोंग उन की इस यात्रा के दौरान उत्तर कोरिया और रूस के बीच हथियारों की बड़ी खरीद फरोख्त का समझौता होने की उम्मीद है। वार्ता के लिए पुतिन सोमवार को ही व्लादिवोस्तोक पहुंच चुके हैं। उत्तर कोरिया को उम्मीद है कि रूस संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों के बीच उनकी बड़ी मदद कर सकता है। पुतिन ने उत्तर कोरिया से वादा किया है कि वह चीन और अमेरिका के साथ मिलकर परमाणु बातचीत को लेकर जारी गतिरोध को तोड़ने की पूरी कोशिश करेंगे।

बढ़ सकती है पश्चिमी देशोंं की चिंताएं

वैसे किम जोंग उन और पुतिन की इस मुलाकात को लेकर यूक्रेन में जारी युद्ध के मद्देनजर रूस के संभावित हथियार सौदे को लेकर पश्चिमी देशों की चिंताएं बढ़ गई हैं। दक्षिण कोरिया के सैन्य विशेषज्ञ इन बुम चून ने कहा कि इस यात्रा के परिणामस्वरूप पुतिन को हथियार मिलेंगे और उत्तर कोरिया को अपनी परमाणु तकनीकी क्षमता को बेहतर बनाने के लिए तकनीक मिलेगी। किम जोंग उन के साथ उत्तर कोरिया के परमाणु-सक्षम हथियारों और युद्ध सामग्री कारखानों की जिम्मेदारी संभालने वाले शीर्ष सैन्य अधिकारी भी रूस पहुंचे हैं।

युद्ध लंबे चलाने में रूस सक्षम

अमेरिकी अधिकारियों के अनुसार पुतिन हथियारों के घटते भंडार को फिर से भरने के लिए उत्तर कोरियाई तोपों और अन्य गोला-बारूद की अधिक आपूर्ति हासिल करने पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं। अधिकारियों ने कहा कि पुतिन यूक्रेन के जवाबी हमलों को शांत करना चाहते हैं और दिखाना चाहते हैं कि वह एक लंबे युद्ध को चलाने में सक्षम हैं।

Related Stories

No stories found.