Earthquake: भूकंप के झटकों से फिर दहला दिल्ली NCR, 4.6 रही तीव्रता; लोगों में दहशत

Earthquake Today in Delhi NCR: भूकंप के झटकों से फिर दहला दिल्ली NCR। राजधानी और उनके आस पास के इलाको में 4.6 तीव्रता के भूकंप के झटके हुए महसूस। अचानक धरती कांपने से लोगों में दहशत।
earthquake
earthquakewww.raftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। दिल्ली और आस पास के इलाकों को एक बार फिर भूकंप से दहलाया। राजधानी और उनके आस पास इलाको में 4.6 तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किये गए। राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के मुताबिक, रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 6.2 मापी गई। अचानक धरती कांपने के कारण लोगों में दहशत का माहौल है।

भूकंप के झटकों से दहशत में लोग

भूकंप के झटकों के बाद दहशत में लोग दफ्तर और घरों से बाहर निकल गए। भूकंप आने का समय दोपहर 2 बजकर 53 मिनट रहा। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। भूकंप का केंद्र नेपाल में बताया जा रहा है। इसकी गहराई पृथ्वी के तल से 5 किमी बताई जा रही है। नोएडा में भूकंप के झटके लगातार 10 से 15 सेकेंड तक महसूस होते रहे। यहां देखें वीडियो

नेपाल था भूकंप का केंद्र

भूकंप का केंद्र नेपाल बाताया जा रहा है। वहां तीन बार अलग-अलग समय पर तेज भूकंप के झटके महसूस किए गए है। नेपाल में भूकंप का पहला झटका 4.6 तीव्रता का 2:25 बजे महसूस किया गया। इसके बाद दूसरा झटका 6.2 तीव्रता का था जो 2:51 बजे महसूस किया गया। और तीसरा झटका 3.6 तीव्रता का था जो 3:06 बजे महसूस किया गया। भूकंप केंद्र नेपाल के दिपायल से 38 किलोमीटर दूर जमीन से पांच किलोमीटर गहराई में था। इसके झटके यूपी-दिल्ली समेतर कई राज्यों में महसूस किए गए। दिल्ली के अलावा गाजियाबाद, नोएडा और फरीदाबाद में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए।

भूकंप के दौरान सुरक्षित रहने के उपायों का रखें ध्यान

  • अपने आस-पास के शीशे, खिड़कियाँ, दरवाजे और दीवारों से दूर रहें।

  • ऐसी कोई चीजें जो गिर सकती हैं जैसे कि लाइटिंग फिक्सचर्स या फर्नीचर, से दूरी बनाएं।

  • अगर आप पलंग पर हैं तो पलंग पर ही रहें और अपने सिर को किसी तकिये से ढक लें।

  • भारी लाइट फिक्सचर्स के नीचे न जाएं और उनसे दूर रहें।

  • भूकंप के बाद भी अपने और अपने आस-पास के लोगों की सुरक्षा का ख्याल रखें।

  • भूकंप पपर भयानक प्राकृतिक प्रकोप हो सकता है, लेकिन सुरक्षित रहने के सही तरीकों का पालन करके हम खुद को और अपने परिवार को हानि से बचा सकते हैं।

    अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.