bhilai-nagar-corona-kills-150-bsp-employees-dependents-get-compassionate-appointment
bhilai-nagar-corona-kills-150-bsp-employees-dependents-get-compassionate-appointment

भिलाई नगर:कोरोना ने बीएसपी के 150 कर्मचारियों की ली जान, आश्रितों को मिले अनुकंपा नियुक्ति

भिलाई श्रमिक सभा के द्वारा प्रबंधन को पत्र भिलाई नगर, 22 अप्रैल (हि. स.)। भिलाई श्रमिक सभा एचएमएस कोविड-19 के कारण भिलाई इस्पात संयंत्र के 150 कर्मचारियों की जान चली गई है। इस गंभीर विषय की जांच होनी चाहिए। मृत कर्मचारियों के आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति मिलनी चाहिए इसके लिए भिलाई श्रमिक सभा के द्वारा प्रबंधन को पत्र लिखा गया है। महासचिव प्रमोद कुमार मिश्र ने जानकारी देते हुए बताया कि यूनियन द्वारा एक पत्र डायरेक्टर इंचार्ज के नाम दिया गया है। यूनियन द्वारा इस पत्र को आईआर विभाग में प्रबंधक राहुल थोटे को सौंपा गया। यूनियन द्वारा 3 नवंबर 2020 एवं 7 अप्रैल 2021 को भी इस आशय का एक पत्र प्रबंधन को दिया गया था एवं मांग की गई थी कि कोविड-19 महामारी से मृत कर्मचारियों के आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति दिया जाए। आज इसी संदर्भ में एक पत्र और दिया गया एवं मांग की गई कि कोविड-19 से मृत कर्मचारियों के आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति तत्काल दी जाए। प्रबंधन द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि कर्मचारियों के जान की कीमत पर स्टील निर्माण नहीं किया जाएगा । इस पर प्रतिक्रिया देते हुए उप महासचिव रामकेश मीणा ने कहा कि ऐसा क्या कारण था कि लगभग 150 कर्मचारियों की इस महामारी में जान चली गई, व्यवस्था में ऐसी कौन सी कमी रह गई । जिसके कारण कर्मचारियों को नहीं बचाया जा सका । इसकी जांच होनी चाहिए तथा दोषियों पर कार्यवाही की जानी चाहिए। संगठन सचिव नीरज सिंह का कहना है कि इतने कर्मचारियों की जान चली गई और प्रबंधन एक भी परिवार के निवास पर जाकर संवेदना व्यक्त नहीं कर पाया ,यह दुर्भाग्य जनक है। सचिव सुनील शर्मा ने कहा कि सेक्टर 9 अस्पताल की व्यवस्था किसी से छुपी नहीं है जो कर्मचारी भर्ती हैं वह अपनी व्यथा बता रहे हैं। अस्पताल में कोविड-19 के मरीजों का इलाज तो किया जा रहा है परंतु कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया जा रहा है। कोविड-19 रक्षक क्षेत्र होना चाहिए ,परंतु बिना किसी सुरक्षा व्यवस्था के मरीजों के परिजन आसानी से वार्ड में प्रवेश कर रहे हैं। इस दौरान उनके द्वारा पीपी किट भी धारण नहीं किया जाता है ।इस वार्ड से स्वयं भी संक्रमित होकर समाज में जितने भी संपर्क में आने वालों को भी संक्रमित कर रहे हैं । अभी भी लोगों को बचाया जा सकता है। इसके लिए मजबूत इच्छाशक्ति का परिचय प्रबंधन को देना होगा। हिन्दुस्थान समाचार /अभय जवादे

Related Stories

No stories found.