Mission 2024: मल्लिकार्जुन खड़गे की भावुक अपील, 'मैंने आपके लिए काम किया है, मेरे अंतिम संस्कार में आ जाना'

Loksabha Election: कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकाजुर्न खड़गे ने कलबुर्गी में एक जनसभा को संबोधित किया। जिसमे उन्होंने स्थानीय लोगो से बहुत ही भावुक अपील की है।
Mallikarjun Kharge
Mallikarjun Khargeraftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। देश में चुनाव का माहौल है। लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण के लिए मतदान 26 अप्रैल 2024 को होना है। सभी दल जनसभा के माध्यम से अपने मुद्दे जनता के सामने रख रहे हैं। वहीं कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकाजुर्न खड़गे ने कलबुर्गी में एक जनसभा को संबोधित किया। जिसमे उन्होंने स्थानीय लोगो से बहुत ही भावुक अपील की है।

तो कम से कम मेरे अंतिम संस्कार में शामिल हो जाना

दरअसल खड़गे अपने दामाद राधाकृष्ण डोड्डामणि के लिए कलबुर्गी लोकसभा सीट के लिए चुनाव प्रचार कर रहे हैं। मल्लिकार्जुन खड़गे ने जनसभा को संबोधित करते हुए अपनी भावुक अपील में कहा कि चाहे आप पार्टी के नेता के पक्ष में वोट न करना चाहते हों, लेकिन अगर आप लोगो को लगता है कि मैंने आप लोगों के लिए काम किया है तो कम से कम मेरे अंतिम संस्कार में शामिल हो जाना। खड़गे ने कलबुर्गी जिले के अफजलपुर में एक चुनावी जनसभा में लोगों से कहा कि अगर आप लोग कांग्रेस प्रत्याशी को वोट नहीं दोगे तो उन्हें (मल्लिकार्जुन खड़गे) लगेगा कि कलबुर्गी में अब उनके लिए कोई जगह नहीं है।

खड़गे को वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर में हार का सामना करना पड़ा था

भाजपा ने मल्लिकार्जुन खड़गे के दामाद राधाकृष्ण डोड्डामणि के खिलाफ मौजूदा सांसद उमेश जाधव को कलबुर्गी लोकसभा सीट से चुनावी मैदान में उतारा है। खड़गे इस लोकसभा सीट से वर्ष 2009 और वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में जीत दर्ज कर चुके हैं। खड़गे को वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर में हार का सामना करना पड़ा था।

सेवानिवृत्ति पद से होती है

मल्लिकार्जुन खड़गे ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि उनका जन्म राजनीति के लिए ही हुआ है। उन्होंने कहा कि वह अपनी अंतिम सांस तक भाजपा और आरएसएस की विचारधारा को हराने के लिए राजनीति में बने रहेंगे। खड़गे ने कहा कि चाहे वह चुनाव लड़ें या नहीं, मगर देश के संविधान और लोकतंत्र को बचाने के लिए अपनी अंतिम सांस तक प्रयास करेंगे। उन्होंने कहा कि वह राजनीति से संन्यास नहीं लेंगे। उनके अनुसार सेवानिवृत्ति पद से होती है। लेकिन किसी को भी अपने सिद्वांतों से सेवानिवृत्ति नहीं लेनी चाहिए।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.