Lok Sabha Poll: सैम पित्रोदा के बयान से कांग्रेस की बड़ी मुश्किलें, विरासत टैक्स पर दिया अमेरिका का हवाला

New Delhi: कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा ने अमेरिका में जैसे विरासत में पाई जाने वाली जायदाद पर टैक्स लगाए जाने पर टिप्पणी कीं। उसके बाद पार्टी ने उनसे दरकिनारा कर लिया है।
Sam Pitroda
Lok Sabha Poll
Sam Pitroda Lok Sabha PollRaftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए विरासत को अल्पसंख्यकों में बांटवे वाले बयान के बाद, कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा का विवादित बयान सामने आया है। उन्होंने अमेरिका का उदाहरण देते हुए विरासत में पाई जाने वाली जायदाद पर टैक्स लगाए जाने पर टिप्पणी कीं। उनके इस बयान से कांग्रेस ने उनसे दरकिनारा कर लिया है।

जयराम रमेश का आया बयान

कांग्रेस ने वरिष्ठ नेता की टिप्पणियों से खुद को अलग कर लिया और कहा कि वे पार्टी की स्थिति को प्रतिबिंबित नहीं करते हैं। कांग्रेस के जयराम रमेश ने एक सोशल मीडिया पर कहा कि पित्रोदा की टिप्पणियों को सनसनीखेज बनाने का उद्देश्य प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनाव अभियान से ध्यान भटकाना है। पित्रोदा ने कहा कि उन्होंने व्यक्तिगत रूप से ये टिप्पणियां की थीं। उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि कांग्रेस के घोषणापत्र के बारे में प्रधानमंत्री जो झूठ फैला रहे हैं उससे ध्यान भटकाने के लिए जनता के सामने तोड़-मरोड़कर पेश किया गया।

सैम पित्रोदा के बयान से मचा बवाल

सैम पित्रोदा ने कहा कि "मैंने टीवी पर अपनी बातचीत में उदाहरण के तौर पर अमेरिका में विरासत टैक्स का उल्लेख किया था। क्या मैं तथ्यों का उल्लेख नहीं कर सकता? मैंने कहा कि ये ऐसे मुद्दे हैं जिन पर लोगों को चर्चा और बहस करनी होगी। इसका किसी भी नीति से कोई लेना-देना नहीं है।" उन्होंने आगे कहा कि "किसने कहा आपसे 55% छीन लिया जाएगा? किसने कहा कि भारत में ऐसा कुछ किया जाना चाहिए? भाजपा और मीडिया घबराए हुए क्यों हैं?"

सैम पित्रोदा ने अपने बयान पर दी सफाई

सैम पित्रोदा ने कांग्रेस के घोषणापत्र पर प्रधानमंत्री के हमलों और धन बांटने वाली टिप्पणी के उनके आरोपों पर समाचार एजेंसी ANI से बात की। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के घोषणापत्र में सकारात्मक कार्रवाई के लिए डेटा आधार प्रदान करने के लिए राष्ट्रव्यापी सामाजिक-आर्थिक और जाति जनगणना का आह्वान किया गया है। हालांकि, इसमें किसी धन पुनर्वितरण योजना का उल्लेख नहीं है। इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के अध्यक्ष सैम पित्रोदा ने कहा कि प्रधानमंत्री सोचते हैं कि भारत में जनता मूर्ख हैं और उन्हें आसानी से भटकाया जा सकता है।

सोना और मंगलसूत्र पर सैम पित्रोदा ने क्या कहा?

उन्होंने आगे कहा कि "कोई भी प्रधानमंत्री इस तरह नहीं बोलेगा। पहले मुझे लगा कि यह AI-जनरेटेड वीडियो है। कांग्रेस का घोषणापत्र बहुत अच्छी तरह से तैयार किया गया है। किसने कहा कि कांग्रेस आपका सोना और मंगलसूत्र चुरा लेंगे। प्रधानमंत्री खुद ही कहानियां बना रहे हैं। मुझे लगता है कि यह शायद डर के कारण है।"

अरबपतियों को हमारी मदद की ज़रूरत नहीं

उन्होंने कहा, कांग्रेस ने हमेशा आर्थिक पिरामिड के निचले पायदान पर मौजूद लोगों पर ध्यान केंद्रित किया है, चाहे वे OB, मुस्लिम, दलित या आदिवासी हो। उन्होंने कहा, "अरबपतियों को हमारी मदद की ज़रूरत नहीं है। गरीब लोग हैं जिन्हें हमारी मदद की ज़रूरत है। पिछले 10 वर्षों में असमानता काफी बढ़ गई है।" उन्होंने कहा, "इसका मतलब यह नहीं है कि आप अपना धन लेकर किसी को देने जा रहे हैं।"

अमेरिका में विरासत टैक्स का दिया उदाहरण

इसके बाद उन्होंने अमेरिका में विरासत टैक्स का उदाहरण देते हुए कहा- "अमेरिका में विरासत टैक्स होता है। यदि किसी के पास 100 मिलियन अमरीकी डालर की संपत्ति है और जब वह मर जाता है तो वह केवल 45 प्रतिशत अपने बच्चों के नाम कर सकता है। 55 प्रतिशत सरकार द्वारा हड़प लिया जाता है। यह एक दिलचस्प कानून है। उन्होंने कहा कि वहां यह कहते हैं कि आपने अपनी पीढ़ी में संपत्ति बनाई और अब जा रहे हैं, आपको अपनी संपत्ति जनता के लिए छोड़नी चाहिए पूरी नहीं मगर आधी जो मुझे उचित लगती है।''

धन वितरण पर बोले सैम पित्रोदा

पित्रोदा ने कहा कि यह नीतिगत मुद्दा है। "कांग्रेस पार्टी एक नीति बनाएगी जिसके माध्यम से धन वितरण बेहतर होगा। भारत में न्यूनतम वेतन नहीं है। अगर हम देश में न्यूनतम वेतन के साथ आते हैं और कहते हैं कि आपको गरीबों को इतना पैसा देना होगा, यह धन का वितरण है। आज अमीर लोग अपने चपरासियों, नौकरों और घरेलू नौकरों को पर्याप्त भुगतान नहीं करते हैं, लेकिन वे उस पैसे को दुबई और लंदन में छुट्टियों पर खर्च करते हैं।"

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.