#Ghaziabad...क्या हैं इसके मायने? क्यों हैशटैग गाजियाबाद सुबह से सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा

Election 2024: लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में 88 सीटों पर मतदान जारी है। इतने सीटों में एक सीट सुबह से माइक्रो ब्लॉगिंग साइट गाजियाबाद पर ट्रेंड कर रही है। वह सीट है-गाजियाबाद।
#गाजियाबाद एक्स ट्रेंड।
#गाजियाबाद एक्स ट्रेंड।रफ्तार।

नई दिल्ली, रफ्तार। अगर, आप सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते हैं तो निश्चित तौर पर एक चीज गौर की होगी। सुबह से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर #Ghaziabad ट्रेंड कर रहा है। इसकी वजह भी बेहद खास है। आज लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण का मतदान हो रहा है। सुबह 7 बजे से 13 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की 88 सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं। इतनी सीटों के बीच सुबह से लगातार गाजियाबाद सीट ट्रेंड कर रही है। आइए, जानते हैं इस सीट के ट्रेंड करने की वजह...

BJP ने सीटिंग सांसद का टिकट काटकर विधायक को मैदान में उतारा

गाजियाबाद सीट पर परिसीमन के बाद से बीजेपी का कब्जा है। इस बार बीजेपी ने सीटिंग सांसद वीके सिंह का टिकट काटकर वैश्य समाज के अतुल गर्ग को प्रत्याशी बनाया है। सपा और कांग्रेस गठबंधन से डॉली शर्मा मैदान में हैं। नंदकिशोर पुंडीर बसपा के प्रत्याशी हैं। इस सीट पर बीजेपी का तीन बार कब्जा है। साल 2019 के चुनाव में बीजेपी के वीके सिंह रिकॉर्ड वोटों से जीते थे। इस बार पार्टियों के प्रत्याशी के साथ सियासी समीकरणों ने भी करवट ली है।

बीजेपी के विधायक बने सांसद प्रत्याशी

बीजेपी के प्रत्याशी अतुल गर्ग दो बार विधायक और स्वास्थ्य मंत्री रहे हैं। अतुल ने 2017 में बसपा प्रत्याशी सुरेश बंसल और 2022 में सपा के विशाल शर्मा को 1 लाख वोटों से हराया था। इनकी गिनती बीजेपी के बड़े नेताओं में होती है। भाजपा ने इनको गाजियाबाद से सीटिंग सांसद जनरल वीके सिंह का टिकट काटकर प्रत्याशी बनाया है।

इंडी गठबंधन से कांग्रेस की डॉली शर्मा उम्मीदवार

सपा और कांग्रेस गठबंधन से कांग्रेस के खाते में सीट है। कांग्रेस ने ब्राह्मण चेहरे डॉली शर्मा को प्रत्याशी बनाया है। डॉली 2019 में भी चुनाव लड़ी थीं, लेकिन तब वह तीसरे नंबर पर थीं। उनकी गिनती युवा कांग्रेस नेताओं में होती है। साल 2017 में अपनी राजनीतिक पारी शुरू करने वाली डॉली निकाय चुनाव लड़ी हैं। हालांकि उसमें भी वह सफल नहीं हुईं थीं। डॉली कई प्रदेशों में कांग्रेस की जिम्मेदारी संभाल चुकी हैं।

बसपा से नंदकिशोर प्रत्याशी

बसपा ने नंदकिशोर पुंडीर को प्रत्याशी बनाया है। पार्टी से पहले अंशय कालरा प्रत्याशी थे। पुंडीर मुजफ्फरनगर से राष्ट्रवादी जनलोक पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ चुके हैं। हालांकि वह जीत नहीं सके थे। फिर वह बसपा में शामिल हुए।

अतुल को टिकट मिलने से राजपूतों में नाराजगी

अतुल गर्ग को टिकट देने पर कई राजपूत संगठनों ने बीजेपी का विरोध किया है। बसपा ने राजपूत नेता को मैदान में उतारकर मुकाबले को दिलचस्प बनाया है। बता दें इस सीट पर राजपूत वोटरों की अच्छी पकड़ है। साथ ही ब्राह्मण वोटर भी निर्णायक हैं। इसको देखते हुए कांग्रेस ने महिला और ब्राह्मण चेहरे पर दांव खेला है।

सीट का जातीय समीकरण

यहां मुस्लिम वोटर करीब 5.5 लाख, राजपूत 4.7 लाख, ब्राह्मण 4.5 लाख, एससी 4.5 लाख, बनिया 2.5 लाख के अलावा करीब 1.25 लाख जाट वोटर हैं।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.