NSA के तहत जेल में बंद अमृतपाल सिंह ने किया पंजाब की इस सीट से नामांकन, जानें कितनी संपत्ति का है मालिक?

Loksabha Election: अमृतपाल सिंह के नामांकन पत्र के साथ दाखिल हलफनामे के अनुसार उसकी संपत्ति का खुलासा हुआ है।
Amritpal singh
Amritpal singhraftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। खालिस्तान समर्थक अमृतपाल सिंह ने जेल से चुनाव लड़ने का निर्णय लिया था। जिसके लिए उसने पंजाब की खडूर साहिब लोकसभा सीट से नामांकन दाखिल कर लिया है। अमृतपाल सिंह असम की डिब्रूगढ़ केंद्रीय जेल में बंद है, राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी(NSA) ने राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत उसपर कार्रवाई की है।

अमृतपाल सिंह की संपत्ति

वह पंजाब के अमृतसर के जल्लूखेड़ा गांव का निवासी है। अमृतपाल सिंह के नामांकन पत्र के साथ दाखिल हलफनामे के अनुसार उसकी संपत्ति का खुलासा हुआ है। इस हलफनामे में उसने अपनी पत्नी की संपत्ति की जानकारी भी दी है। आपको जानकर हैरानी होगी कि अमृतपाल के पास संपत्ति के नाम पर सिर्फ एक हजार रूपये हैं। जो उसके बैंक खाते में जमा हैं। उसके पास न ही कोई मकान है और न ही किसी अन्य तरह की कोई जायदाद। उसके पास फोन तक नहीं है।

पत्नी किरणदीप कौर की संपत्ति

वहीं अमृतपाल सिंह की पत्नी किरणदीप कौर 18.17 लाख रुपये की संपत्ति की मालकिन हैं। अमृतपाल सिंह के चुनावी हलफनामे के अनुसार उसकी पत्नी किरणदीप कौर के विदेश में लंदन के बैंक खाते में चार लाख से ज्यादा रुपये जमा हैं। किरणदीप कौर के पास 20 हजार रुपये नगदी है। अमृतपाल सिंह की पत्नी किरणदीप कौर गहनों की काफी शौकीन हैं। उनके पास 14 लाख के आभूषण हैं। दोनों पति पत्नी पर किसी तरह का कोई कर्ज नहीं है।

पंजाब पुलिस ने वर्ष 2023 में अमृतपाल सिंह को गिरफ्तार किया था

पंजाब पुलिस ने वर्ष 2023 में अपने विशेष अभियान के तहत खालिस्तान समर्थक अमृतपाल सिंह को गिरफ्तार किया था। पंजाब पुलिस को अमृतपाल सिंह की तलाश थी। क्योंकि उसने इससे पहले अमृतसर के अजनाला थाने पर अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर हमला कर दिया था, जिसमे छह पुलिसकर्मी घायल ही गए थे। अमृतपाल सिंह के इस हमले में पुलिस को उसके साथी लवप्रीत सिंह तूफान को छोड़ने का ऐलान करना पड़ा था।

खुद को भारतीय नहीं मानता अमृतपाल

साल 2023 में न्यूज एजेंसी एएनआई को दिए इंटरव्यू में अमृतपाल ने कहा था कि वह खुद को भारतीय नागरिक नहीं मानता है। उन्हें एक पासपोर्ट भारतीय नहीं बनाता है। यह सिर्फ सफर करने के लिए एक दस्तावेज है। अमृतपाल ने कहा था कि आतंकवाद ऐसी चीज नहीं है, जिसे मेरे माध्यम से शुरू किया जा सके। उग्रवाद बहुत एक नेचुरल फिनोमिना है। यह कहीं भी दमन के बाद होता है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.